breaking news New

करोड़ों रूपये के सोने के जेवर चोरी करने वाले शातिर चोर चढ़े पुलिस के हत्थे

करोड़ों रूपये के सोने के जेवर चोरी करने वाले शातिर चोर चढ़े पुलिस के हत्थे

कवर्धा । थाना बड़ापारा, जिला बेरहमपुर, राज्य उड़ीसा के  ज्वेलरी शॉप में लगभग 1.5 करोड़ रूपये की सोने की जेवर को चोरी कर लिये जाने की रिपोर्ट पर अपराध क्रमांक 224/20 धारा 457,380 भादवि कायम कर अज्ञात आरोपियों की पतासाजी की जा रही थी, कि उड़ीसा पुलिस द्वारा सीसीटीव्ही फुटेज एवं अन्य जांच दौरान संदेही पतासाजी में कवर्धा आने पर पुलिस अधीक्षक कबीरधाम से सहयोग प्राप्त करने के आग्रह किया।

शलभ कुमार सिन्हा, पुलिस अधीक्षक कबीरधाम द्वारा उड़ीसा पुलिस को संदेही की पतासाजी के लिए हरसंभव मदद उपलब्ध कराने के लिए विशेष टीम गठित किया। उक्त टीम द्वारा उड़ीसा पुलिस से जानकारी प्राप्त कर सीसीटीव्ही फुटेज में प्राप्त हुलिया के अनुसार जिले के आदतन निगरानी चोर लोकेश श्रीवास से पुछताछ किया।

लोकेश श्रीवास पूर्व में भी चोरी के प्रकरण में 04 बार जेल में निरूद्ध रहा है एवं जिले से 01 वर्ष की कालावधि के लिए जिला बदर भी रह चुका है तथा वर्तमान मे जमानत पर रिहा होने के बाद कवर्धा शहर में रह रहा है। संदेही लोकेश श्रीवास से उड़ीसा राज्य में हुये घटना के संबंध में पुछताछ करने पर उसने अक्टूबर माह के अंतिम सप्ताह में बड़ापारा मे अपने अन्य साथी लोकेश राव निवासी कुर्सीपार भिलाई के साथ मिलकर घटना को अंजाम देना बताया तथा लोकेश राव के साथ दुर्ग जेल में निरूद्ध होने के समय घटना की योजना बनाया जाना बताया।

चोरी किये गये कुछ सोने के जेवर को उत्तरप्रदेश राज्य में बिक्री करना तथा कुछ जेवर को अपने पास रखना बताया तथा बिक्री किये गये सोने के जेवर से प्राप्त रकम मे से एक अर्टिका कार खरीदना भी बताया। आरोपी लोकेश श्रीवास के बताये अनुसार उसके अन्य साथी लोकेश राव की भी पतासाजी कर गिरफ्तार किया एवं उनके कब्जे से सोने के 169 ग्राम जेवर एवं 12,60,000 रूपये नगदी रकम एवं चोरी के रकम से खरीदा हुआ एक अर्टिका कार कीमती 13,00,000 रूपये एवं 02 नग मोबाईल कुल कीमती लगभग 38,00,000 रूपये को जप्त कर कब्जा पुलिस लिया गया।

गिरफ्तार आरोपियों के विरूद्ध उड़ीसा राज्य में अपराध पंजीबद्ध होने से ट्रांजिट रिमांड में ले जाया गया है। इस प्रकार संपूर्ण मामले में शलभ कुमार सिन्हा पुलिस अधीक्षक कबीरधाम के मार्गनिर्देशन एवं दिशा-निर्देश में सहायक उप निरीक्षक चंद्रकांत तिवारी, आरक्षक शमसेर अली, आकाश राजपूत, मनीष कुमार एवं उड़ीसा पुलिस से आये स्टाफ द्वारा सराहनीय कार्य किया गया है।