breaking news New

कोरोना से भयमुक्त होकर पटरी पर वापस लौट चुके जनजीवन लेकिन गरीबों की रेल पटरी से अभी भी गायब

कोरोना से भयमुक्त होकर पटरी पर वापस लौट चुके जनजीवन लेकिन गरीबों की रेल पटरी से अभी भी गायब

सक्ती।  कोरोना के कहर से भयमुक्त होकर स्कूल, कोर्ट, मार्किट आदि सभी संस्थान पटरी पर वापस लौट चुके हैं।  फिर हमारे आवागमन का प्रमुख साधन पैसेंजर ट्रेनों का रेल की पटरी से गायब रहना समझ से परे है।  खासकर अंतिम छोर पर खड़े 75% आबादी की अर्थ व्यवस्था ही इस पर आधारित है फिर इसके बिना शायद उनकी आर्थिक सुदृढ़ता की कल्पना बेमानी है...

सच में रेल प्रशासन को चाहिए कि अविलंब यात्री गाड़ियों (पैसेंजर)का परिचालन शीघ्र प्रारंभ कर अंत्योदय की जीवन को पटरी पर लाने के लिए समोचित कदम उठाए...वरना समाज में असंतुलन व आपराधिक कृत्य का माहौल संभावित हैं... उक्त उद्गार व्यक्त करते हुए सक्ती नगर के सामाजिक संगठनों ने अधिवक्ता चितरंजय पटेल के अगुवाई में क्षेत्रीय महाप्रबंधक     दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर को ज्ञापन प्रेषित किया है । इस अवसर पर मारवाड़ी युवा मंच के राजीव अग्रवाल, चंद्रपुर यात्रा समिति के कोंडके मौर्य, युवा देवांगन समाज के सोनु देवांगन, राठौर समाज से श्याम राठौर आदि शामिल होकर सक्षम अधिकारियों से अविलंब रायगढ़ से बिलासपुर-रायपुर के बीच यात्री गाड़ियों ( पैसेंजर) का परिचालन प्रारंभ किये जाने की मांग की है...