breaking news New

ब्रेकिंग : रेमडेसिविर के 15 हजार इंजेक्शन पहुंचे, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट कर दी जानकारी, उदयोगों को आक्सीजन की आपूर्ति जारी रखें : सीएम भूपेश बघेल ने पीएम से की मांग

ब्रेकिंग : रेमडेसिविर के 15 हजार इंजेक्शन पहुंचे, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट कर दी जानकारी, उदयोगों को आक्सीजन की आपूर्ति जारी रखें : सीएम भूपेश बघेल ने पीएम से की मांग
जनधारा समाचार

रायपुर. कोरोना संकट के बीच राहत की बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। गंभीर कोरेाना मरीजों के उपचार में कारगर रेमडेसिविर इंजेक्शन की खुराक रायपुर पहुंची है। रेमडेसिविर इंजेक्शन के 15 हजार वायल पहुंचे है।

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। मंत्री ने बताया कि 15 हजार रेमडेसिविर के वायल पहुंचे हैं। एयरपोर्ट से स्टोरेज के लिए सीजीएमएससी गोडाउन भेजा गया। वहीं आज शाम से ही इंजेक्शन का डिस्ट्रीब्यूशन शुरू हो जाएगा।

मुख्यमंत्री ने किया पीएम से आग्रह


दूसरी ओर सीएम भूपेश बघेल ने आज वैक्सीन और रेमडेसिविर के लिए पीएम से किया विशेष आग्रह. वर्चुअल मीटिंग में हुई चर्चा में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कहा कि स्टील उद्योगों को ऑक्सिजन की आपूर्ति रोकने से हज़ारों लोगों का रोज़गार प्रभावित होगा। उन्होंने इस निर्णय पर पुनर्विचार की मांग की। भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से केंद्र सरकार को कोरोना के टीके मिलने की दर पर ही राज्यों को भी टीका उपलब्ध कराने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि इससे राज्यों पर वित्तीय भार कम होगा।

मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण के लिए प्रदेश को केंद्र सरकार से मिलने वाले वैक्सीन की आपूर्ति की समय सारणी से भी अवगत कराने का आग्रह किया है, जिससे राज्य में सभी पात्र लोगों के टीकाकरण की कार्ययोजना बनाई जा सके। श्री बघेल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना नियंत्रण की व्यवस्था और टीकाकरण की प्रगति की. बैठक में स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव, गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू और मुख्य सचिव अमिताभ जैन भी शामिल हुए। समीक्षा बैठक में स्वास्थ्य विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणु जी. पिल्लै, मुख्यमंत्री के सचिव सिद्धार्थ कोमल परदेशी और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉ. प्रियंका शुक्ला भी मौजूद थीं।