breaking news New

गौठानो से गोबर खरीदी आजीविका केन्द्र के रूप में होंगे विकसित

गौठानो से गोबर खरीदी आजीविका केन्द्र के रूप में होंगे विकसित

240 गौठानो में  एक करोड़ 13 लाख 9 हजार 86.18 किलो गोबर खरीदी,

 सक्ती किसानो को 2 करोड़ 26 लाख 18 हजार 172.36 रूपये का मिला लाभ,

       जांजगीर-चांपा। राज्य  सरकार की महत्वाकांक्षी  गोधन न्याय योजना से गौ पालकों और गोबर संग्राहकों को लाभ मिलने से खुशी माहौल है। जिला पंचायत कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार 20 जुलाई से 31 अक्टूबर तक जिले के 240 गौठानों के माध्यम से एक करोड़ 13 लाख 9 हजार 86.18 किलो ग्राम गोबर की खरीदी की गई है। इसके एवज में गौ पालकों और गोबर संग्राहकों  को 2 करोड़ 26 लाख 18 हजार 172.36 रूपयें का भुगतान किया जा चुका है। 

      प्राप्त जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत अकलतरा के 36 और बलौदा के 16 गौठानो के माध्यम से खरीदी की जा रही है। इसी प्रकार जनपद पंचायत बम्हनीडीह के 25, डभरा के 20, जैजैपुर के 25, मालखरौदा के 25, नवागढ़ 27, पामगढ़ के 23 और सक्ती के  28 गौठानों के माध्यम से गोबर खरीदी की जारही है। इसके अलावा शहरी क्षेत्र के 15 गौठानों से भी गोबर खरीदी के लिए पंजीकृत है।

आजीविका केन्द्र के रूप में विकसित होगा गौठान-

      जिले मे सभी विभागों के समन्वित प्रयास से गौठान और गोधन न्याय योजना का सफल क्रियान्वयन किया जा  रहा है और इसका लाभ ग्रामीणों, किसानों, पशुपालकों सहित समाज के गरीब तबके के लोगों को मिलने लगा है। गौठानों में वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन और विक्रय भी शुरू हो चुका है। इससे अब महिला समूहों को भी लाभ मिलने लगेगा। वर्मी कम्पोस्ट सहित अन्य सामग्रियां जैसे दिया, फिनाईल, अगरबत्ती निर्माण, मशरूम, फल-सब्जी-मसाला उत्पादन के लिए महिला समूहों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। निर्माणाधीन एवं अप्रारंभ गौठानों को तेजी से पूरा कराने और इसे आजीविका केन्द्र के रूप में विकसित करने के भी निर्देश दिए गए हैैं।