सीएम भूपेश के वादे खोखले साबित, गरीब परिवारों को नहीं किया गया राशन का वितरण

सीएम भूपेश के वादे खोखले साबित, गरीब परिवारों को नहीं किया गया राशन का वितरण

 

सक्ती।  छत्तीसगढ़ प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल के द्वारा घोषणा की गई थी कि पूरे छत्तीसगढ़ में 1  अप्रैल से पीडीएस चावल प्रत्येक गरीब  परिवारों को दिया जाएगा परंतु उनके आदेश केवल खोखले साबित नजर आ रहे हैं।  क्योंकि 1 अप्रैल को शक्ति नगर की पीडीएस शासकीय उचित मूल्य दुकान कहीं भी किसी भी हितग्राहियों को राशन वितरण नहीं किया गया।  1 अप्रैल को हितग्राहियों के द्वारा सुबह से ही हमें राशन सामग्री  मिलेगी सोचकर शासकीय उचित मूल्य दुकानों पर पहुंचने लगे  और कई हितग्राही शाम को 5:00 बजे तक दुकान के सामने नजर आए परंतु नगर के एक भी उचित मूल्य दुकान खुली नजर नहीं है वही इस संबंध में शासकीय उचित मूल्य दुकान के संचालकों से चर्चा करने पर उनके द्वारा बताया गया कि अभी तक हमें  चावल का आवंटन नहीं हुआ है  और हमारे द्वारा  डीडी जमा करने के पश्चात  10:00 11 तारीख से चावल प्राप्त होने बाद ही वितरण किया जाएगा। 


  इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि शासन की योजनाएं कितने कागजों में चल रही है  इन दिनों कोरोना का संक्रमण फैला हुआ है जिसे कारण समूचे देश भर में लॉक डाउन कर दिया गया है। लोगों के सामने बेरोजगारी आ खड़ी है। ऐसे में राशन की व्यवस्था करना उनके सामने एक चुनौती हो चुकी है। शाम 5:00 बजे अनेकों हितग्राहियों के द्वारा यह जानकारी मीडिया कर्मियों को दी गई कि हमें छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा आदेश किया गया था कि 1 अप्रैल से आप लोगों को चावल मिलेगा परंतु आज किसी भी शासकीय उचित मूल्य की दुकान पर चावल वितरण नहीं किया जा रहा है कि नगर की शासकीय राशन वितरण की दुकानों में राशन उपलब्ध नहीं होने के कारण वितरण नहीं हो पा रहा है जिस कारण गरीब तबके में खाने-पीने की समस्या आ चुकी है। 

नगर के वार्ड नंबर 17 के कुछ लोगों ने बताया कि उनके पास राशन कार्ड है किंतु अभी तक उन्हें राशन प्राप्त नहीं हो पा रहा है। दुकाने नहीं खुल रही हैं जब इस बारे में पता किया गया तो सभी वार्डों के   राशन दुकान का संचालन करने वाले  ने बताया कि शासन की ओर से ही हमें अभी तक प्राप्त नहीं हुआ है तो हम वितरण कैसे करें ? जिम्मेदार अधिकारियों की माने तो सरकारी राशन तत्काल प्रभाव से दिया जाना है किंतु 1 अप्रैल को भी राशन नहीं दिया गया बहुत से लोग राशन लेने के लिए भटकते हुए नजर आए। 

        इसकी जानकारी जब जिला नोडल अधिकारी जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल को बताई गई तो उनके द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व डॉक्टर सुभाष सिंह राज  नगर पालिका अधिकारी एवं खाद्य अधिकारी से इसकी जानकारी  अधिकारियों से  लेने की बात कही गई । एक और जहां काम धंधा चौपट होने के बाद लोग घरों से निकलना बंद रोजमर्रा के कार्य करने वाले लोगों को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि कहीं से भी मजदूरी नहीं मिल पा रही है वहीं उनके सामने राशन को लेकर एक समस्या आ खड़ी हुई है। सरकारी राशन प्राप्त करने के लिए लोगों को शासकीय उचित मूल्य की दुकानों के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं। लोगों ने मांग की है कि उचित मूल्य की दुकानों को तत्काल चालू किया जाए और राशन का वितरण सुचारू रूप  से वितरण    की मांग की जा रही है