breaking news New

करंट के चपेट में मजदूर हुआ सौ फ़ीसदी विकलांग, परिजन लगा रहे दरदर की गुहार

करंट के चपेट में मजदूर हुआ सौ फ़ीसदी विकलांग, परिजन लगा रहे दरदर की गुहार

चांपा।  चांपा के समीप ग्राम सिवनी निवासी धनेश्वर बरेट 32 वर्ष एक निजी स्थान पर हाथ चलित मशीन के द्वारा बोरिंग खुदाई का कार्य कर रहा था कार्य के दौरान लाइन के चपेट में आकर यह मजदूर 13 सितंबर 2020 को गंभीर रूप से घायल हो गया उसे उपचार के लिए पहले चांपा में संचालित एनकेएच हॉस्पिटल ले जाया गया जहां से उसे गंभीर स्थिति को देखते हुए बिलासपुर के लिए रिफर कर दिया गया बिलासपुर पहुंचने पर उसकी गंभीर अवस्था के चलते तत्काल रायपुर रिफर कर दिया गया जहां उसके उपचार के दौरान पहले दोनों हाथ को स्वास्थ्य कारणों के चलते काटना पड़ा इसके बाद भी स्वास्थ्य पर पड़ रहे गंभीर दुष्प्रभाव के कारणों से उसका दोनों पैर को भी काटना पड़ गया जिसके चलते वह गरीब और असहाय परिवार पर अब आफत दुख का पहाड़ टूट पड़ा है बताया जाता है कि धनेश्वर बरेट के इलाज में ₹500000 से भी अधिक का भारी-भरकम धनराशि लग चुका है इसके बाद भी उसका जिंदगी मौत और बीच के झूल रहा है

इन्हीं कारणों से मरीज तथा पूरा परिवार पर दर दर की ठोकरें खाने को मजबूर है यहां पर स्पष्ट कर दें कि धनेश्वर अपने परिवार का इकलौता कमाऊ सदस्य था तथा इकलौता चिराग होने के चलते चारों तरफ से इन पर मुसीबतों का पहाड़ गिर पड़ा है असहाय मजदूर का जहां पहले से तीन मासूम दूध पीते बच्चे हैं वहीं अब इस स्थिति में भी इस गरीब व्यक्ति का कहीं से कोई सहयोग का हाथ नहीं बढ़ने से वह चारों तरफ परेशानियों से घिर चुका है सहयोग व सहायता नहीं मिलने के कारण गरीब मजदूर खून के आंसू बहा कर अपने आप को कोसते हुए भगवान का ही स्मरण करने में लगा।