breaking news New

‘मुख्यमंत्री मितान योजना लागू, महज 18 घण्टे में ही कोसरिया परिवार को मिला जन्म प्रमाण-पत्र

‘मुख्यमंत्री मितान योजना लागू,  महज 18 घण्टे में ही कोसरिया परिवार को मिला जन्म प्रमाण-पत्र

रायपुर। आमजनता से संबंधित प्रमुख सेवाओं को सुगम व सरल बनाने मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने श्रम दिवस के अवसर पर एक मई को ‘मुख्यमंत्री मितान योजना लागू की है। योजना के तहत आम नागरिक ज़रूरी प्रमाणपत्र घर बैठे आसानी से प्राप्त कर रहे हैं। इसी कड़ी में नगर पालिक निगम धमतरी के सदर दक्षिण वार्ड रामबाग निवासी श्री प्रदीप कोसरिया परिवार को महज 18 घंटे में ही उनके नवजात पुत्र ऋत्विक कोसरिया का जन्म प्रमाण पत्र घर पर ही मिल गया। दरअसल बात यह है कि  प्रदीप कोसरिया ने अपने नवजात पुत्र के जन्म प्रमाण पत्र के लिए मुख्यमंत्री मितान योजना के तहत आवेदन किया था। प्रमाण पत्र बनने के बाद धमतरी जिला कलेक्टर श्री पी.एस. एल्मा ने स्वयं श्री प्रदीप कोसरिया के घर पहुंच कर नवजात पुत्र ऋत्विक का जन्म प्रमाण पत्र दिया। कलेक्टर के हाथों जन्म प्रमाण पत्र पाकर कोसरिया परिवार का उत्साह दुगुना हो गया।

        उल्लेखनीय है कि  प्रदीप कोसरिया की पत्नी  पूर्णिमा कोसरिया ने 20 मार्च 2022 को पुत्र को जन्म दिया था, जिसका नाम ऋत्विक रखा था। उन्होंने अपने पुत्र के जन्म प्रमाण-पत्र के लिए टोल फ्री नंबर 14545 पर कॉल किया। कॉल करने के महज 18 घंटे के भीतर ही ‘मितान‘ बने कलेक्टर और निगम आयुक्त  मनीष मिश्रा के हाथों आवेदक के घर जाकर दम्पति को शिशु का जन्म प्रमाण पत्र सौंपा गया। श्री कोसरिया ने राज्य सरकार की इस त्वरित कार्यवाही की योजना के लिए मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल के प्रति आभार व्यक्त किया और कहा कि जिन प्रमाण-पत्रों के लिए पहले काफी मशक्कत करनी पड़ती थी, आज घर बैठे ही बड़ी सहजता व सरलता से उपलब्ध कराई जा रही है। उन्होंने ‘मुख्यमंत्री मितान योजना‘ को आमजनता के लिए बेहद कारगर और उपयोगी बताया।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री मितान योजना के जरिए 13 तरह के प्रमाणपत्र बनाए जाने का प्रावधान है। योजना के प्रारम्भिक चरण में प्रारम्भिक चरण में प्रदेश के सभी 14 नगर पालिक निगमों में लागू किया गया है। योजना का लाभ लेने के लिए आवेदक को टोल फ्री नम्बर- 14545 पर कॉल करना होता है। कॉल प्राप्त होने पर आवेदक की सहायता के लिए नियुक्त किए गए मितान घर तक पहुँचते हैं और ज़रूरी दस्तावेज पोर्टल पर अपलोड करने के उपरांत तैयार प्रमाण-पत्र आवेदक को घर तक पहुँचाकर देते हैं। इसके लिए आवेदन शुल्क भी मात्र 50 रुपए निर्धारित है, जो नकद या ऑनलाइन जमा किया जा सकता है। योजना के तहत कोई भी आवेदक अब जाति, आय, जन्म, मृत्यु, विवाह प्रमाणपत्र या इनमें सुधार, भूमि सूचना प्रमाणपत्र या नान डिजिटाइज नकल के लिए उक्त टोल फ्री नम्बर पर आवेदन कर घर बैठे प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते है। इससे न केवल आवेदक का समय और श्रम, अपितु ईंधन व परिवहन व्यय की भी बचत होगी।