breaking news New

आज़मगढ़ में आज से अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म उत्सव भूलन द मेज का प्रदर्शन 20 को

आज़मगढ़ में आज से अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म उत्सव भूलन द मेज का प्रदर्शन 20 को


उतरप्रदेश के आज़मगढ़ शहर में आज से तीन दिवसीय  अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म उत्सव का आयोजित होने जा रहा है जिसमे पहले दिन कामाख्या नारायण सिंह की चर्चित फ़िल्म भोर दिखाई जायेगी

यह फ़िल्म बिहार के मुसहर जाति  पर आधारित है जो चूहा मार के खाती है । दूसरे दिन 20 अक्टूबर को मनोज वर्मा द्वारा निर्देशित संजीव बक्शी के उपन्यास भूलन क़ांदा पर आधारित फिल्म भूलन द मेज का प्रदर्शन होगा ।19-21 अक्टूबर 2019 को आज़मगढ़ की शारदा टॉकीज़ में होने वाले इस दूसरे आज़मगढ़ अंतर्राष्ट्रीय फ़िल्म उत्सव के शुभारंभ अवसर पर राष्ट्रीय पुरष्कार प्राप्त रंगकर्मी अभिषेक पंडित फ़िल्म ऐक्टर गायक पीयूष मिश्रा द्वारा संयुक्त रूप से उनके बैंड 'बल्लीमारान'के  लोकप्रिय गीतों का गायन किया जायेगा ।

फ़िल्म उत्सव का आयोजन देश की ख्यातिलब्ध नाट्य संस्था सूत्रधार आज़मगढ़ निनाद फाउंडेशन मिलकर कर रहे है।इस  फ़िल्म उत्सव के संयोजक   प्रसिद्ध पत्रकार ,अंतराष्टीय फ़िल्म समीक्षक   अजित राय हैं । रायपुर से इस फ़िल्म उत्सव में मनोज वर्मा और छत्तीसगढ़ फ़िल्म एंड विज़ुअल आर्ट सोसायटी के अध्यक्ष सुभाष मिश्र को विशेष रूप से आंमत्रित किया गया है ।

दूसरे आज़मगढ़ अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म फेस्टिवल का शुभारंभ 19 अक्टूबर की शाम 5 बजे किया जाएगा।

इस फिल्म उत्सव के दूसरे दिन सुबह 10:30 पर पीयूष मिश्रा आज़मगढ़ के युवाओं व दर्शको से सीधा संवाद करेंगे जो कि दोपहर तक चलेगा।दोपहर दो बजे से डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी की फ़िल्म 'जेड प्लस' का प्रदर्शन किया जाएगा जिसमे मुख्य भूमिका आदिल हुसैन व अन्नू कपूर की होगी।इसके लेखक राम कुमार सिंह इस सत्र में संवाद के लिए मौजूद रहेंगे।शाम 4 बजे से अमित राय द्वारा निर्देशित व ओमपुरी,परेश रावल,पवन मल्होत्रा अभिनीत  फ़िल्म 'रोड टू संगम' दिखया जाएगा।यह फ़िल्म महात्मा गांधी के डेढ़ सौवीं जयंति पर उन्हें समर्पित है। शाम 6:30 बजे से 'भूलन-द मेज़' का प्रदर्शन रखा गया है जिसका निर्देशन मनोज वर्मा ने किया है। इस समारोह के तीसरे व आखरी दिन देश भर से जुटे डेलीगेट्स व आजमगढ़ के युवाओं के लिए विश्व सिनेमा पर जाने माने अंतरराष्ट्रीय फ़िल्म समीक्षक अजित राय जी की मास्टर क्लास होगी ।दोपहर 2 बजे शिवमूर्ति की प्रसिद्ध कहानी 'तर्पण' पर इस नाम से नीलम आर.सिंह के निर्देशन में बनी फ़िल्म का प्रदर्शन किया जाएगा।जिसमे मुख्य भूमिका एनएसडी से प्रशिक्षित नंद पंत की है।शाम 7 बजे समारोह की समापन फ़िल्म 'धूमकुड़िया' के प्रदर्शन के बाद समापन सत्र का आयोजन रखा गया है।इस साल के फ़िल्म फेस्टिवल का थीम दलित आदिवासी अस्मिता व सामाजिक न्याय रखा गया है।।