शराब खरीदने लगी लम्बी लाइन, विरोध करते दो भाजपा नेता गिरफ्तार

शराब खरीदने लगी लम्बी लाइन, विरोध करते दो भाजपा नेता गिरफ्तार

AKJ-रायपुर : तालाबंदी के दौरान घरों में कैद रहने के बाद जब जब लॉकडाउन का तीसरा चरण काफी छूट के साथ शुरू हुआ तो लोगों की भीड़ सड़क पर देख कर ऐसा लग रहा था मानो इनमे से किसी को न तो खुद की जान की परवाह है और न ही अपने परिवार वालों की। ऐसे में देशप्रेम की उम्मीद करना भी इनसे ठीक नहीं होगा। तालाबंदी के दौरान जब सारी सुविधाएं बंद कर दी गई थी तब लोग पुलिस के डर से जरूर घर से नहीं निकल रहे थे लेकिन जैसे ही शराब दुकान खोलने के आदेश जारी हुए 39 दिनों तक घर में घुसे रहने वाले यही लोग शराब की एक बोतल के लिए चार से पांच तक कड़ी धुप में लाइन में लगे रहे। ये नजारा सिर्फ एक दो जगहों पर नहीं था बल्कि पुरे देश भर में जहां भी शराब दुकाने खुली हर जगह पर कुछ ऐसा देखने को मिला। 


बात राजधानी रायपुर की करें तो एक शराब दुकान के बाहर खड़े लोग, दो गज की दूरी बना कर सोशल डिस्टेंसिंग का पूरी तरह से पालन करते हुए अपनी बारी का इंतज़ार करते दिखे, लेकिन ये अनुशासन वास्तव में खुद से नहीं था, बल्कि पुलिस के डर की वजह से था। वहीं कई ऐसी जगहों पर शराब लेने की जल्दबाजी के कारन पुलिस की लाठी भी खानी पडी। 


सुबह नौ बजे से शराब दुकान खुलनी थी लेकिन लोग बड़े तड़के छह बजे से ही शराब दुकानों के सामने लाइन लगाकर खड़े हो गए थे। दिन भर पूरे राज्य से ऐसी ही खबरें देखने को मिल रही थी। लेकिन दोपहर के समय प्रदेश के दो स्थानों पर तस्वीर में थोड़ी गर्मी देखने को मिली, जिसमे भाजपा के दो नेताओं की गिरफ्तारी भी हुई। 


रायपुर के मोवा इलाके की शराब दुकान में भाजपा नेता गौरी शंकर श्रीवास अचानक से प्रदर्शन करने पहुंच गए और शराब दुकान खोलने का विरोध करने लगे, थोड़ी देर बाद ही मोवा इलाके के भाजपा के मंडल अध्यक्ष ओमप्रकाश साहू भी अपनी महिला टीम के साथ शराब दुकान खोलने का विरोध करने मौके पर पहुंच गए। एक तरफ शराबियों की लम्बी लाइन तो वहीं दुसरी तरफ भाजपा के दो नेताओं का प्रदर्शन शुरू हो गया, मीडिया भी पहुंच गई, कई बड़े चैनलों में लाइव चलने लगा। मामला गर्माता देख शहर के एडिशनल एसपी पंकज चंद्रा मौके पर दल बल के साथ पहुंच गए और प्रदर्शन कर रहे भाजपा नेता गौरी शंकर श्रीवास और ओमप्रकाश साहू को गिरफ्तार कर ले गए।  जिसके बाद मामला शांत हुआ, पुलिस ने शराब दुकान बंद करवा दी और लाइन में लगे शराबियों को खदेड़ दिया।