breaking news New

करतारपुर कॉरीडोर के उद्घाटन से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा ऐलान

करतारपुर कॉरीडोर के उद्घाटन से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान का बड़ा ऐलान

लाहौर, 1 नवंबर। इस महीने की नौ तारीख को करतारपुर कॉरीडोर के उद्घाटन से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने बड़े ऐलान किए हैं. उन्होंने कहा है कि करतारपुर साहिब आने के लिए भारतीय तीर्थयात्रियों को पासपोर्ट की जरूरत नहीं होगी और न ही उन्हें 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा. एक ट्वीट में उन्होंने कहा, भारत से करतारपुर तीर्थयात्रा के लिए आने वाले सिखों के लिए मैंने दो चीजों में छूट दी है. पहली, उन्हें पासपोर्ट की जरूरत नहीं है. केवल वैध पहचान पत्र चाहिए होगा. और दूसरी छूट ये कि उन्हें 10 दिन पहले रजिस्ट्रेशन कराने की जरूरत नहीं है. साथ ही उद्घाटन के दिन और गुरुजी की 550वीं जयंती के दिन उनसे कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा.’

मान्यता है कि करतारपुर में सिख पंथ के संस्थापक गुरु नानकदेव ने अपना अंतिम समय बिताया था. यह पाकिस्तानी पंजाब के नरोवाल जिले में है. रावी नदी के दूसरी ओर स्थित डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से इसकी दूरी करीब चार किलोमीटर है. पिछले साल नवंबर में भारत और पाकिस्तान, करतारपुर साहिब को डेरा बाबा नानक से जोड़ने के लिए एक गलियारे का निर्माण करने पर सहमत हुए थे. उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने इस गलियारे के निर्माण के लिए पिछले साल 26 नवंबर को पंजाब के गुरदासपुर में भूमिपूजन किया था. इसके दो दिन बाद 28 नवंबर को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने नारोवाल में ऐसा ही कार्यक्रम किया था.

पाकिस्तान ने करतारपुर आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए 20 डॉलर यानी करीब 1400 रु का शुल्क रखा है. भारत ने उससे ऐसा न करने का अनुरोध किया था. लेकिन उसने इससे इनकार कर दिया. पाकिस्तान सरकार ने करतारपुर कॉरिडोर के उद्घाटन के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को निमंत्रण दिया था. लेकिन उन्होंने इसे स्वीकार नहीं किया. उन्होंने कहा कि वे आम तीर्थयात्री की तरह वहां जाएंगे. करतारपुर जाने वाले पहले जत्थे में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी समेत 575 लोगों के नाम शामिल हैं.