breaking news New

मॉडल आंचल यादव केस : काल डिटेल ने उगले कई सरकारी अधिकारियों और नेताओं के नाम

मॉडल आंचल यादव केस : काल डिटेल ने उगले कई सरकारी अधिकारियों और नेताओं के नाम


आशिका कुजूर

रायपुर. मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल और इंदौर में हुए हनी ट्रैप के मांमले की अनुगूँज छत्तीसगढ़ की राजघानी रायपुर में भी सुनाई पड़ रही है. यहाँ पर भी हनी ट्रैप जैसे मामले पहले हो चुके हैं जिसमें पूर्व भाजपा सरकार के रसूखदार नेताओं के नामों की चर्चा होती रही. रायपुर का सीडी काण्ड अभी भी पूरे देश में चर्चा का विषय और सियासी दावंपेंच का सबब बना हुआ है।  

मध्यप्रदेश के इंदौर से बड़ी खबर है कि फिर एक बार हनी ट्रैपिंग में आला अफसरों और नेताओं के नाम सामने आएं हैं। बुधवार को देर रात इंदौर पुलिस की सूचना पर भोपाल पुलिस और एटीएस ने अभियान चलाकर बड़ी कार्रवाई की थी जिससे पॉश इलाकों से 6 लोगों की गिरफ़्तारी हुई, इसमें 5 महिलाएं भी शामिल हैं। जिनमें से तीन भोपाल और दो इंदौर से पकड़ी गई थी। पूछताछ के बाद कई बड़े अफसरों और नेताओं के नाम भी सामने आने से सियासी गलियारों में हड़कंप मचा हुआ है। वहीं प्रशासन भी इस मामले को लेकर सख़्त कार्यवाही कर रहा है.

ये तीनों युवतियां कई नेताओं और अफसरों को ब्लैकमेल कर रहीं थी। कई नेताओं और अफसरों को अपना शिकार बना चुकी हैं। मोबाइल में और भी कई लोगों के आपत्तिजनक वीडियो पाए गए हैं। अब इंटेलिजेंस पुलिस हनी ट्रैप के रैकेट को खंगाल रही है। हनी ट्रैप से मिलते जुलते मामले में छत्तीसगढ़ भी किसी से पीछे नहीं रहा है। छत्तीसगढ़ की मॉडल आँचल यादव जिसकी हत्या का आरोप उसकी माँ और भाई पर है, उसने भी छत्तीसगढ़ के वन विभाग तथा अन्य विभागों के अधिकारीयों से हनी ट्रैप जैसे मामले में काफी रकम ऐंठी थी।

  • बड़े अधिकारी दबा रहे हैं प्रकरण को, कांग्रेस और भाजपा के कई नेता भी फंसे
    भोपाल और इंदौर में भी हनी ट्रेप मामले की अनुगूंज
    मध्य प्रदेश में ऐसे ही एक केस के खुलासे के बाद छत्तीसगढ़ के सियासी हल्कों में चर्चा जोरों पर है कि मॉडल आंचल यादव के प्रकरण में जो कॉल डिटेल्स निकाले गए थे, वे नाम कौन से हैं जिसमें बड़ी संख्या में वन विभाग के अधिकारियों के नाम उजागर हुए थे. वन विभाग के एक अधिकारी उदय राज सिंह द्वारा पुलिस में उसके नाम ब्लैकमेलिंग के जरिये पांच करोड़ रुपये मांगने की लिखित शिकायत दर्ज की गई थी और इस शिकायत के आधार पर गिरफ्तारी भी हुई थी. पुलिस को जांच में बहुत से वन विभाग के अधिकारियों के,व्यवसायी और नेताओं के नाम पता चले थे।

    यदि आँचल यादव के कॉल डिटेल्स को सार्वजनिक किया जाता तो बहुत से चेहरे छत्तीसगढ़ के हनी ट्रैप मामले में बेनकाब होते। एक अन्य मामले में होली के समय छेड़छाड़ का कथित आरोप लगाकर एक महिला ने बीजेपी से जुड़े एक बड़े नेता के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी। अंदरूनी सूत्रों के अनुसार यहाँ भी मामला आपसी लेनदेन का ही था। ये गिरोह चर्चित अफसरों और बड़े नेताओं को अपना शिकार बनाते हैं। इससे पहले भी एक आईएएस अफसर को ब्लैकमेल कर मोटी रकम ऐंठ चुके हैं। इंदौर पुलिस की एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र के मुताबिक इंदौर के एक प्रभावशाली व्यक्ति ने पिछले दिनों शिकायत की थी कि एक महिला उनसे दोस्ती करने के बाद उनके साथ कुछ आपत्तिजनक फोटो और वीडियो बना लिए थे और उन्हें वायरल करने की धमकी देकर पैसों के लिए ब्लैकमेल कर रही थी।


हाल ही में हुए हनी ट्रैप मामले में दो पूर्व मंत्री और एक वर्तमान मंत्री का नाम भी सामने आ रहा है जिन्हे ब्लैकमेल करने की कोशिश की गई थी। पुलिस ने पूछताछ जारी रखा है जिसमें हाईप्रोफाइल नामों से जुड़े होने की गुंजाईश बताई जा रही है। वहीँ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस रैकेट में तीन महीने पहले कांग्रेस से हटाए गए अमित सोनी का नाम शामिल होना बताया जा रहा है। अमित को कांग्रेस में आईटी सेल में प्रदेश उपाध्यक्ष के पद पर थे।

उदारीकरण के इस दौर में कम समय में ज्यादा पैसे कमाने की होड़ के चक्कर में कई गिरोह अपने शिकार की तलाश में रहते हैं। ख़ूबसूरती का जाल बिछाकर पैसे ऐंठने और अवैध काम करवाने के लिए पहले विश्वास जीत कर सम्बन्ध बनाते हैं और फिर वीडियो बनाकर ब्लैकमेल किया जाता है। यह जाल ज्यादातर बड़े अफसरों, उद्योगपतियों और नेताओं के लिए बिछाया जाता है जिन्हे ब्लैकमेल कर आसानी से पैसे लिए जा सकते हों या कोई बड़ा काम करवाया जा सकता हो।

इससे पहले भी कई बड़े अफसर हनी ट्रैप के शिकार हो चुके हैं और उन्हें पद से हटाया भी जा चुका है। नेताओं को भी पार्टी से निष्कासित किया गया लेंकिन इसके बावजूद हनी ट्रैपिंग के मामले होते रहते हैं। यहाँ तक कि देश की सुरक्षा एजेंसीज में भी हनी ट्रैप की सेंध लगी थी। कभी अनिका चोपड़ा, संगीता मिश्रा, आयशा राय, नीता सिंह तो कभी आरती दयाल, सीमा और बरखा भटनागर जैसी महिलाओं के नाम सामने आते रहें हैं। ऐसी महिलाएं फेसबुक, इंस्टाग्राम जैसे सोशल नेटवर्किंग साइट्स से अपने शिकार को जाल में फसाती हैं। मुंबई, दिल्ली, हरियाणा या मध्यप्रदेश जैसी जगह हो, इन खूबसूरत हसीनाओं के चक्कर में लोग फंस ही जाते हैं।