breaking news New

तेजिन्दर का समय और कथा-सरोकार का राष्ट्रीय आयोजन 29 को वृंदावन सभागार में

तेजिन्दर का समय और कथा-सरोकार का राष्ट्रीय आयोजन 29 को वृंदावन सभागार में

  रायपुर, 9 सितंबर।  'निरंतर पहल'  साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्था रायपुर द्वारा प्रसिद्ध लेखक व उपन्यासकार तेजिन्दर सिंह गगन की याद में माहान्त 29 सितम्बर रविवार को शाम 3.30 बजे 'वृंदावन सभागार' सिविल लाइंस रायपुर में 'तेजिन्दर का समय और कथा-सरोकार' का राष्ट्रीय आयोजन तीन सत्र में किया जा रहा है। साहित्य प्रेमी इस आत्मीय आयोजन में सादर आमंत्रित हैं।

इस आयोजन का पहला सत्र 3.30 से 5 बजे तक रहेगा जिसमें सृजन यात्रा: तेजिन्दर के उपन्यासों  पर विमर्श किया जाएगा। इसमें मुख्य अतिथि देशबंधु के प्रधान संपादक ललित सुरजन होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता भोपाल के वरिष्ठ कहानीकार, पेंटर एवं मीडिया कर्मी शशांक करेंगे।  मुख्य वक्ता वरिष्ठ समालोचक जयप्रकाश (दुर्ग), वरिष्ठ अनुवादक, संपादक व टिप्पणीकार मधु बी जोशी (दिल्ली) व बिलासपुर के वरिष्ठ कथाकार सतीश जायसवाल होंगे। 

कार्यक्रम का दूसरा सत्र 5.10 से 6.40 बजे तक रहेगा जिसमें संस्मरण: तेजिन्दर की दुनिया पर विमर्श किया जाएगा। इसमें मुख्य अतिथि छत्तीसगढ़ मित्र के वरिष्ठ संपादक डॉ. सुशील त्रिवेदी होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता नई दिल्ली के वरिष्ठ कवि एवं संपादक लीलाधर मंडलोई करेंगे।  मुख्य वक्ता वरिष्ठ कथाकार जया जादवानी, वरिष्ठ कवि डॉ. आलोक वर्मा, वरिष्ठ कवियित्री डॉ. शीला गोयल, बिग्रेडियर प्रदीप यदु, वरिष्ठ रंग निर्देशक एवं पूर्व उद्घोषक मिर्जा मसूद, वरिष्ठ उद्घोषक मुंबई से कमल शर्मा, वरिष्ठ कवि व संपादक विजय शंकर, पूर्व उद्घोषक आकाशवाणी लाल रामकुमार सिंह  होंगे। 

शाम 6.40 से 7 बजे तक विश्राम लेने के बाद तीसरा सत्र शाम 7 बजे से 7.40 तक का रहेगा। इसमें राग रंग: कहानी की प्रस्तुति एवं कविता पोस्टर प्रदर्शनी की जाएगी। इसमें मुख्य अतिथि रायपुर वरिष्ठ संपादक रमेश नैयर होंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता इंदौर के वरिष्ठ कथाकार व चित्रकार प्रभु जोशी करेंगे। कहानी प्रस्तुति रायपुर के वरिष्ठ रंग निर्देशक राजकमल नायक, कहानी पाठ रायपुर के वरिष्ठ रंग निर्देशक मिनहास असद करेंगे। कविता पोस्टर का विमोचन रायपुर के वरिष्ठ कवि एवं चित्रकार कुंवर रवीन्द्र  एवं वरिष्ठ चित्रकार अरुण काठोटे द्वारा किया जाएगा। 

कार्यक्रम के आयोजन में वरिष्ठ संपादक दिवाकर मुक्तिबोध, वरिष्ठ पत्रकार डॉ. दीपक पाचपोर, छत्तीसगढ़ मित्र के प्रबंध संपादक डॉ. सुधीर शर्मा, कला समीक्षक राजेश गनोदवाले, सरदार दिलीप सिंह अरोरा (प्रिंस), अजय अवस्थी,शरद शर्मा, स्मिता शर्मा का विशेष भागीदारी एवं सहयोग रहेगा। कार्यक्रम उपरान्त स्वल्पाहार। 

पंजाब के जालंधर में 1951 को जन्में प्रदेश के सुप्रसिद्ध उपन्यासकार और दूरदर्शन के पूर्व उपमहानिदेशक तेजिंदर सिंह गगन स्थानीय अखबार से अपने करियर की शुरुआत करने के बाद में सेंट्रल बैंक आॅफ इंडिया में अधिकारी रहे और फिर आकाशवाणी व दूरदर्शन में लंबे समय तक कार्य करते रहे। वो अपने गृहनगर रायपुर में ही दूरदर्शन से सेवानिवृत्त हुए और उसके बाद से प्रदेश के सांस्कृतिक जगत में लगातार सक्रिय रहे। वे छत्तीसगढ़ प्रगतिशील लेखक संघ की राज्य कायर्कारिणी के सदस्य भी थे।

छग शासन का पं. सुंदरलाल शर्मा सम्मान सहित अन्य अनेक साहित्यिक सम्मान से सम्मानित तेजिंदर ने दूरदर्शन के रायपुर, अंबिकापुर, संबलपुर, नागपुर, देहरादून, चेन्नई व अहमदाबाद आदि केंद्रों में अपनी सेवाएं दीं थी। इसके साथ ही उन्होंने उपन्यास काला पादरी, डायरी सागा-सागा, सीढ़ियों पर चीता काफी चर्चित हुए। उनके उपन्यास वह मेरा चेहरा, उस शहर तक, हैलो सुजीत है। उनका कहानी संग्रह थोड़ा बादल,  एवं कविता बच्चे अलाप ताप रहे हैं काफी चर्चित हुए।