breaking news New

अगर जासूसी हुई है तो इसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर गंभीर असर पड़ेगा : प्रियंका गांधी

अगर जासूसी हुई है तो इसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर गंभीर असर पड़ेगा : प्रियंका गांधी

नई दिल्ली, 1 नवंबर। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कई भारतीय पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं की कथित जासूसी को लेकर शुक्रवार को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा. एक ट्वीट कर उन्होंने कहा, ‘अगर भाजपा या सरकार ने पत्रकारों, वकीलों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और नेताओं के फोन की जासूसी करने के लिए इजराइली एजेंसियों को लगाया है तो यह मानवाधिकार का घोर उल्लंघन और बड़ा स्कैंडल है जिसका राष्ट्रीय सुरक्षा पर गंभीर असर होगा.’ प्रियंका गांधी ने यह भी कहा कि सरकार की प्रतिक्रिया की प्रतीक्षा है.

असल में वाट्सएप ने पहली बार माना है कि उसके 1400 यूजरों की जासूसी हुई है और इनमें भारत के करीब दो दर्जन पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता भी शामिल हैं. वाट्सऐप का कहना है कि यह जासूसी मई 2019 में की गई और इसका जरिया बना पेगेसस नाम का एक इजरायली स्पाइवेयर. फेसबुक के स्वामित्व वाली इस कंपनी ने इस सिलसिले में अमेरिका में एक मामला भी दायर किया है. इसमें इजरायल के एनएसओ ग्रुप और क्यू साइबर टेक्नॉलॉजीज को आरोपित बनाया गया है. वाट्सएप के मुताबिक उसने खुद इन यूजरों से संपर्क करने उन्हें यह जानकारी दी है. हालांकि कंपनी ने इन लोगों की पहचान बताने से इंकार कर दिया.

उधर, इस विवाद पर गृह मंत्रालय ने कहा है कि सरकार नागरिकों के मौलिक अधिकारों की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध है. उसके मुताबिक नागरिकों की निजता के उल्लंघन की खबरें भारत की छवि को धूमिल करने की कोशिश हैं. सरकार ने इसे लेकर वाट्सएप से विस्तृत जवाब भी मांगा है.