breaking news New

अब Rahul Gandhi भी करेंगे मन की बात

अब Rahul Gandhi भी करेंगे मन की बात


जल्द शुरू कर सकते हैं ऑनलाइन पॉडकास्ट प्रोग्राम

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी देश की जनता से जुडऩे के लिए रेडियो पर मन की बात करते हैं। पीएम मोदी के इस कार्यक्रम का मुकाबला करने के लिए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी जल्द ही मन की बात कर सकते हैं। दरअसल राहुल गांधी आने वाले समय में पॉडकास्ट सर्विस पर भी हाथ आजमा सकते हैं। बताया जा रहा है कि इस मामले की जानकारी कांग्रेस दफ्तर से जुड़े एक शख्स ने दी है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी जल्द ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हर महीने के आखिरी में प्रसारित होने वाली मन की बात से टक्कर ले सकते हैं। इस मामले की जानकारी रखने वाले कांग्रेस दफ्तर से जुड़े एक शख्स ने बताया कि अभी हम योजना बनाने वाली स्टेज पर ही हैं। उन्होंने कहा कि विशेषज्ञों के साथ बारीक बिंदुओं पर चर्चा कर रहे हैं और उनसे पूछ रहे हैं कि कैसे इसके बारे में जाना जाए। पॉडकास्ट एक ऑडियो संदेश या चर्चा है, जिसे डिजिटल रूप से स्थानांतरित किया जाता है।

 कुछ समय पहले ही राहुल ने लॉन्च किया यूट्यूब चैनल

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कुछ समय पहले ही अपना यूट्यूब चैनल लॉन्च किया है, लॉक डाउन के दौरान उन्होंने इसके जरिए लोगों तक अपनी पहुंच बनानी शुरू कर दी है। राहुल गांधी के यूट्यूब चैनल पर अब तक 2 लाख 94 हजार सब्स्क्राइबर हो चुके हैं। हालांकि प्रवासी मजदूरों वाली उनकी बातचीत 752,000 लोगों ने देखी। स्वास्थ्य विशेषज्ञों प्रोफेसर आशीष झा और कोरोनो वायरस पर प्रोफेसर जोहान गिसेके के साथ उनकी वीडियो के जरिए की गई बातचीत को 90,000 से ज्यादा बार देखा गया।

राहुल के ट्विटर पर 14.4 मिलियन फॉलोअर 

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्विटर पर 57.9 मिलियन फॉलोअर्स के अलावा यूट्यूब चैनल पर 6.45 मिलियन सब्स्क्राइबर हैं, इसके साथ ही उन्हें 45 मिलियन लोग फेसबुक पर फॉलो करते हैं। वहीं राहुल गांधी को ट्विटर पर 14.4 मिलियन जबकि 3.2 मिलियन लोग फेसबुक पर फॉलो करते हैं। सूत्रों ने कहा है कि हम लिंक्डइन पर भी जाने के बारे में विचार कर रहे हैं। कांग्रेस सूत्रों ने दावा किया है कि लॉक डाउन के दौरान पार्टी के सोशल मीडिया कैंपेन को अच्छी प्रतिक्रिया मिली है। कांग्रेस नेता ने बताया कि 28 मई को हमारा स्पीक अप इंडिया ऑनलाइन अभियान काफी हिट रहा। 5.7 मिलियन से अधिक पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने दिन भर विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपने संदेश अपलोड किए। किसानों, प्रवासी श्रमिकों, दैनिक वेतन भोगियों और महामारी से प्रभावित छोटे व्यवसायों को तत्काल वित्तीय सहायता प्रदान करने की मांगों को स्वीकार करने के लिए केंद्र सरकार पर दबाव बनाने के को लेकर दिन भर अभियान चलाया गया।