राष्ट्रपति ने मांगी माफी, सरकारी अधिकारी को पहले तेल में डुबोया, फिर जलाकर भून दिया, अब कर रहे हैं पश्चाताप

राष्ट्रपति ने मांगी माफी, सरकारी अधिकारी को पहले तेल में डुबोया,  फिर जलाकर भून दिया, अब कर रहे हैं पश्चाताप

दक्षिण कोरियाई नागरिक की समुद्र में गोली मारकर हत्या किए जाने पर उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन ने शुक्रवार को माफी मांगते हुए इसे 'अप्रत्याशित और अपमानजनक घटना' करार दिया। सियोल स्थित राषट्रपति ऑफिस की तरफ से यह बात कही गई।

उत्तर कोरियाई सैनिकों द्वारा मंगलवार को मत्स्य अधिकारी की गोली मारकर हत्या की गई। सियोल ने कहा कि उनके शरीर को पानी में रहते हुए ही आग लग गई थी, जाहिरा तौर पर कोरोनावायरस संक्रमण के खिलाफ एहतियात के तौर पर ऐसा किया गया। पिछले एक दशक में ऐसा पहली बार हुआ है जब दक्षिण कोरिया के किसी नागरिक की हत्या की गई है, जिसके चलते गुस्सा भड़क उठा है।

दक्षिण कोरिया के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार सुह हून ने कहा कि कोरोनावायरस के सामने आकर मदद करने की बजाय किम जोंग उन ने गुस्साए राष्ट्रपति मून और दक्षिण कोरियाई लोगों से माफी मांगी। सुह दक्षिण के संबंधों के लिए उत्तर कोरिया की सत्ताधारी पार्टी के विभाग के एक पत्र को पढ़ रहे थे। इसमें लिखा था- इसमें प्योंगयांग ने उस आदमी पर करीब 10 गोलियां चलाने की बात स्वीकार की, जिसने पानी में अवैध रूप से प्रवेश किया था और खुद को ठीक से पहचान बताने से इनकार कर दिया था।

सीमा रक्षकों ने निर्देशानुसार उसके ऊपर गोलियां चलाई। सियोल के सैन्य अधिकारियों ने बताया कि पानी में उस शख्स से कई घंटों तक पूछताछ की गई। उसने खुद को दोषी बताया, उसके बाद ऊपर से मिले आदेश के बाद उसे मार दिया गया।