breaking news New

जिले में अवैध शराब बिक्री धड़ल्ले से राज्य शासन व आबकारी विभाग कुंभकरण की नींद में - राजेश श्यामकर

जिले में अवैध शराब बिक्री धड़ल्ले से राज्य शासन व आबकारी विभाग कुंभकरण की नींद में - राजेश श्यामकर

राजनांदगांव, 4 दिसम्बर। इन दिनों जिले में आए दिन अवैध शराब की बिक्री गांव से लेकर शहरों तक गली चौक चौराहा व मोहल्लों में धड़ल्ले से शराब की बिक्री जोरों पर है। राज्य शासन से लेकर आबकारी विभाग कुंभकरण की नींद में होने के कारण आए दिन अखबारों की सुर्खियों में है । और यही अवैध शराब बिक्री से जिले की शांति व्यवस्था दिनों दिन गिरते जा रहे हैं आए दिन विभिन्न प्रकार के घटना हो रहे हैं। जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 09 के जिला सदस्य व जिला आपकारी विभाग समिति के सलाहकार राजेश श्यामकर ने राज्य शासन से लेकर जिला प्रशासन को आड़े हाथ लेते हुए बताया कि डोंगरगढ़ क्षेत्र के साथ जिले मे धड़ल्ले से शहर से लेकर गांव गांव, होटल, पान ठेला, ढाबा व रेस्टोरेंट्स में अवैध शराब  बिक्री हो रहे हैं । जबकि रेस्टोरेंट्स व ढाबा खोलने से  प्रशासन से अनुमति लेना पड़ता है और प्रशासन भी सारी मापदंड को ध्यान में रखकर ढाबा रेस्टोरेंट व होटल खोलने का परमिशन दिया जाता है किंतु आबकारी विभाग भी अवैध ढाबा रेस्टोरेंट होटलों पर कोई कार्यवाही नहीं करते हैं इसलिए अवैध शराब की बिक्री ढाबा रेस्टोरेंट होटल जैसे जगह पर अपने मूल व्यवसाय के आड़ में अवैध धंधा अवैध शराब बिक्री कर अपने क्षेत्र आसपास को अशांति का माहौल पैदा कर रहे हैं, जिससे क्षेत्र व आसपास के रहवासियों को भी अपने आप में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। इसके बाद भी जिला प्रशासन व आबकारी विभाग हाथ में हाथ धरे बैठे हैं और कोई कार्यवाही नहीं करने के कारण अवैध शराब बिक्री करने वालों की हौसला बुलंद होते जा रहे है । 

श्री श्यामकर ने राज्य सरकार को ध्यानाकर्षण कराते हुए सुझाव के साथ राजनाँदगाव जिले में जितने भी ढाबा, होटल व रेस्टोरेंट संचालित हैं। उन सभी व्यवसाय को जिला प्रशासन से अनुमति के लिए अनिवार्य करते हुए अवैध शराब बिक्री के साथ अवैध धंधा करने वालों के ऊपर कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जरूरत है क्योंकि आए दिन छत्तीसगढ़ राज्य से बाहर की अवैध शराब आए दिन बॉर्डर से पार हो रहे हैं और संबंधित आबकारी विभाग हाथ में हाथ धरकर सिर्फ कार्यवाही के आड़ में अपनी जेब गर्म करते हुए राजनादगांव जिलेवासियों को कार्यवाही के नाम पर गुमराह कर रहे हैं, अगर आबकारी विभाग व पुलिस विभाग अवैध शराब बिक्री पर पूरी ईमानदारी के साथ कार्यवाही करते हुए रोकथाम करते तो लोग भारी मात्रा में दूसरे राज्य से विभिन्न प्रकार से शराब  छत्तीसगढ़ के राजनाँदगाव जिले में नहीं पहुंचते आबकारी विभाग हमेशा अखबारों में समाचार प्रकाशित करवा रहे हैं। 

पड़ोसी राज्य से भारी मात्रा में अवैध शराब को पकड़े हैं किंतु वास्तव में आबकारी विभाग अवैध शराब बिक्री व पड़ोसी राज्य से अवैध शराब का छत्तीसगढ़ राज्य राजनाँदगाव जिले में प्रवेश करने से पहले अवैध धंधा अवैध शराब बिक्री करने वालों का हौसला बुलंद नहीं होते । श्री श्यामकर ने आबकारी विभाग को भी आड़े हाथ लेते हुए बताया कि अगर आबकारी विभाग अपने कर्तव्य पूरी ईमानदारी के साथ अवैध शराब बिक्री में रोकथाम करते तो आज डोगरगढ क्षेत्र सहित जिले की अशांति नहीं फैलते । जिले में विभिन्न प्रकार से अनेकों घटनाएं हो रहे हैं इसके लिए आपकारी विभाग पूर्ण रूप से जिम्मेदार है क्योंकि सारी घटनाएं करने से पूर्व कभी भी कहीं भी किसी भी जगह पर अवैध शराब आसानी से मिल जाते हैं और वही आसानी से मिल जाने के बाद पीने के बाद अनेकों प्रकार से घटनाएं करते हैं इसलिए डोगरगढ क्षेत्र सहित जिले की जी  ई रोड किनारे जितने भी ढाबा व  रेस्टोरेंट्स अन्य व्यवसाय कर रहे हैं उसमें जिला प्रशासन व आबकारी विभाग सी सी टी वी  कैमरा लगवाने की निर्देश देवें ताकि होटल और रेस्टोरेंट जैसे जगहों पर कोई भी अवैध धंधा शराब सेवन करते पाए जाते हैं तो इसके लिए पूर्ण रूप से व्यवसाय करने वालों संचालक के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही और कहीं बाहरी व्यक्ति आकर किसी भी प्रकार से ढाबा में आकर भोजन करते हैं। शराब पीते हैं तो इसकी पूर्ण रूप से जानकारी कैमरे में लोड हो जाएं ताकि समय आने पर कैमरे के माध्यम से आरोपी तक आबकारी विभाग व पुलिस विभाग पहुंच सके ।

श्री श्यामकर ने आगे बताया कि शहर सहित जिले की शांति व्यवस्था बनाने से पहले सबसे पहले अवैध शराब पर अंकुश लगाना बहुत जरूरी है जब तक अवैध शराब पर अंकुश नहीं लगाते हैं आबकारी विभाग तब तक शहर सहित पूरे जिले में अशांति व्यवस्था पैदा करने के लिए आबकारी विभाग स्वयं अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इसलिए शहर सहित पूरे जिले में शांति व्यवस्था बनाने के लिए रेस्टोरेंट्स, ढाबा व होटलों की सर्वे जिला प्रशासन व आबकारी विभाग कराते हुए विधिवत लाइसेंस की भी गंभीरता जांच किया जावे नियम शर्त के अनुसार  व्यवसाय नहीं कर रहे हैं। ऐसे व्यवसाई को तत्काल बंद सील भी किया जाएं जिले के सभी बड़े व्यवसाय जो आबकारी विभाग से संबंधित है ऐसे सभी व्यवसायिक स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाने की आबकारी विभाग  जिम्मेदारी लें।