breaking news New

अबूझमाड़ की संस्कृति को सहेजने का दायित्व आप पर: कलेक्टर

 अबूझमाड़ की संस्कृति को सहेजने का दायित्व आप पर: कलेक्टर

नारायणपुर, 14 सितंबर। जिले के धुर नक्सल प्रभावित ओरछा विकासखंड अबूझमाड़ के रहवासियों को उनकी जमीन का मालिकाना हक देने वनाधिकार मान्यता पत्र प्रदान करने के संदर्भ में आज ओरछा मुख्यालय स्थित आठ आश्रम शाला के प्रंागण में अबूझमाड़ के मांझी चालकी पटेल और गायताओं की एक दिवसीय कार्यशाला संपन्न हुई। इस अवसर पर एसडीएम  भूपेन्द्र कुमार साहू सहायक आयुक्त आदिवासी विकास  केएस मसराम सहित आईटीबीपी के सहायक कमांडेंट दिनेश कुमार मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत आशीष डे के अलावा क्षेत्र के पंचायत पदाधिकारीए समाज के प्रमुख और परगनाओं के मांझी चालकी पटेल गायता और बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे। कलेक्टर ने कहा कि अबूझमाड़ और यहाँ की वन संपदा पर पहला हक अगर किसी का है तो वह आपका है। यहाँ की कला-संस्कृति को सहेजने और संवारने का दायित्व आप सभी का है। उन्होंने कहा कि जब यहां सर्वे का काम चालू हो जायेगा तो आप सभी उसमे अपना सहयोग प्रदान करें। कलेक्टर ने कहा कि अबूझमाडिय़ों के विकास के लिए सरकार द्वारा अबूझमाड़ विकास प्राधिकरण बनाया गया है। जिसके माध्यम से आप सभी के विकास के लिए निर्माण एवं अन्य कार्यों को सरलता ओर सुगमता से पूरा किया जा रहा है। कलेक्टर ने ग्रामीणों की मांग पर स्थायी आधार पंजीयन केन्द्र ओरछा में शुरू करने की बात कही। उन्होंने कहा कि राज्य शासन और प्रशासन आदिवासियों के सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ ही बच्चों को अच्छी शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए बेहतर से बेहतर काम कर रही है। कलेक्टर ने कार्यशाला में उपस्थित सभी मांझीए चालकीए पटेल और गायताओं से वनाधिकार मान्यता पत्र प्रदान करने हेतु सर्वे के काम को बेहतर ढंग से करने के लिए सुझाव भी मांगे जिस पर सभी प्रमुखों ने अपने-अपने विचार प्रस्तुत किये। कार्यक्रम के आरंभ में समाज प्रमुखों ने कलेक्टर को पगड़ी पहना कर उनका सम्मान किया।