breaking news New

भारत का 50वां अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह : भारतीय फिल्मकार को-प्रोडक्शन संधि का लाभ उठाएं

भारत का 50वां अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह : भारतीय फिल्मकार को-प्रोडक्शन संधि का लाभ उठाएं

अजित राय

गोवा, 26 नवबंर। भारतीय फिल्मकारों को रूस में फिल्म बनाने पर 40 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी। रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कई मुलाकातों के बाद दोनों देशों के बीच को-प्रोडक्शन संधि संभव हुई है। भारत के 50 वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह गोवा में रूस के राजदूत निकोलाई आर कुदाशेव और रूसी प्रतिनिधिमंडल की प्रमुख मारिया लेमेशेवा ने यहां यह घोषणा की और भारतीय फिल्मकारों से अपील की कि वे इस को-प्रोडक्शन संधि का लाभ उठाएं। रूस इस बार यहां फोकस कंट्री है और रूस की आठ फिल्में दिखाई जा रही है। दर्शकों में समकालीन रूसी सिनेमा के प्रति जबरदस्त उत्साह देखा जा रहा है और सभी शो हाउसफुल जा रहे हैं। 

भारत के सरफराज आलम की कंपनी कारतीना इंटरटेनमेंट को भारत में रूसी फिल्म निर्माण का आफिशियल पार्टनर बनाया गया है। यह कंपनी पिछले पांच सालों से रूस और भारत के बीच सिनेमा के क्षेत्र में पुल का काम करती है। सरफराज आलम कहते हैं कि रूस में सात हजार और भारत में तेरह हजार स्क्रीन है। दोनों देश मिलकर फिल्म निर्माण में काम करें तो इतिहास रचा जा सकता है। दोनों देशों के पास गजब की कहानियांए टेक्नोलॉजी और शूटिंग लोकेशन्स है। पेरेस्त्रोइका 1989-90 के पहले  रूस और भारत के बीच फिल्मों का आयात. निर्यात होता था। सरफराज पुराने दिनों को याद करते हुए कहते हैं कि रूस की एक पूरी पीढ़ी राजकपूर और मिथुन चक्रवर्ती की फिल्मों के साथ जवान हुई है। रूस में भारतीय फिल्मों का स्वर्णिम इतिहास रहा हैए उसे अब फिर से दोहराने की जरूरत है। कारतीना इंटरटेनमेंट की मदद से अभी शूजित सरकार सेंट पीटर्सबर्ग में अपनी फिल्म रदार उधम सिंह की शूटिंग कर रहे हैं जिसमें विकी कौशल मुख्य भूमिका निभा रहे हैं।

सरफराज आलम बताते हैं कि जब सोवियत संघ था तब कुछ फिल्में को. प्रोडक्शन मे बनी थी। मसलन नरगिस की परदेशी अ जर्नी बियोंड द थ्री सी ए ब्लैक माउंटेन (1971) रिक्की टीक्की तावी (1975) धर्मेंद्र और हेमामालिनी की अलीबाबा और चालीस चोर (1979) अमिताभ बच्चन की  अजूबा ( 1989) । सुप्रसिद्ध रूसी फिल्मकार निकिता मिखाइलकोव को भारत के 46वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह 2015 में लाइफ टाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से नवाजा गया था। कान फिल्म समारोह 2019 के अन सर्टेन रिगार्ड खंड में सर्वश्रेष्ठ निर्देशक का पुरस्कार और फिप्रेस्की का बेस्ट फिल्म का पुरस्कार जीतने वाली कंटेमीर बालागोव की फिल्म बीनपोल गोवा फिल्मोत्सव की यादगार फिल्म साबित हो रही है। कंटेमीर बालागोव की फिल्म क्लोजनेस को 1917 में भी कान फिल्म फेस्टिवल के अन सर्टेन रिगार्ड खंड में फिप्रेस्की का पुरस्कार मिल चुका है। बीनपोल द्वितीय विश्व युद्ध से तबाह हो चुके 1945 के लेलिनग्राद अब सेंट पीटर्सबर्ग में चुटकी भर जिंदगी के लिए संघर्षरत दो स्त्रियों की बेमिसाल प्रेम कथा है। ईया और माशा इस ध्वस्त हो चुके शहर में जहां जीवन और मृत्यु का खेल जारी है तरह-तरह से अपने जीवन को संवारने में जुटी हुई है। 

ईया की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री विक्टोरिया मिनोश्निचेंको की दुनिया भर में जबरदस्त चर्चा हो रही है। बीनपोल आस्कर अवार्ड में विदेशी भाषा की श्रेणी में रूस से आफिशियल प्रविष्टि है। यह फिल्म बेलारूस की नोबेल पुरस्कार विजेता श्वेतलाना अलेक्सीएविच की रचना ष् वल्र्ड अनवुमनी फेस (1985) से प्रेरित है।  रूस के जीनीयस फिल्मकार आंद्रेई तारकोवस्की के बेटे आंद्रेई तारकोवस्की जूनियर ने अपने पिता के जीवन और काम पर एक विलक्षण डाक्यूमेंट्री बनाई है  ए आंद्रेई तारकोवस्की अ सिनेमा प्रेयर। फिल्मकारों का फिल्मकार माने जाने वाले तारकोवस्की के बारे में यह फिल्म कई धारणाओं का विरोध करती है। उन्हें बौद्धिक रहस्यवादी के मुकाबले आध्यात्मिक इंसान बताया गया है जिनके लिए फिल्म निर्माण परदे पर प्रार्थना की रचनात्मक कोशिश थी।