breaking news New

प्रशासन की नाक के नीचे से चैनमाउंटेन से कुल्हाड़ीकोट में की जा रही रेत लोडिंग

 प्रशासन की नाक के नीचे से चैनमाउंटेन से कुल्हाड़ीकोट में की जा रही रेत लोडिंग

किसन लाल विस्वकर्मा 

मगरलोड। ब्लॉक मुख्यालय से कुछ ही दूरी पर ग्राम कुल्हाड़ीकोट में वैध रेत खदान संचालित है।सूत्रों से पता चला है,की यह रेत खदान चंद्रकांत साहू किसान पारा ,गोबरा नयापारा निवासी के नाम से अधिकृत है। जंहा खनिज विभाग की नियमो को ताक में रखकर  खुलेआम धज्जियाँ उड़ायी जा रही है।कुल्हाड़ीकोट की पैरी नदी रेत खदान में ठेकेदार द्वारा रात के अंधेरो में ग्रामीणों व प्रशासन के आंखों में धूल झोंककर हाईवा में रेत लोडिंग किया जा रहा है।नियमानुसार लगभग 3 फिट की गहराई से रेत निकाला जा सकता है,लेकिन यहां ठेकेदारों के मनमानी के चलते रेत का खनन लगभग 6 से 7 फिट की गहरायी से रेत निकाला जा रहा और ऐसा नही है,की खनिज विभाग को इस इस बात की जानकारी नही है।खनिज विभाग को सभी जानकारी होने के बाद भी अंजान व मौन है।यहां कोई कार्यवाही नही किया जा रहा है,जिससे साफ-साफ पता चलता है,की खनिज विभाग ठेकेदार पर महेरबान नजर आ रहा है।ये अपने आप मे बड़ा सवाल ग्रामीणों में बना हुआ है।सूत्रों से यह भी जानकारी मिली है,की यहां रेत से लोडिंग सभी हाईवा के नाम पर रॉयल्टी पिटपास नही काटा जा रहा है।जिससे कारण ग्राम पंचायत कुल्हाड़ीकोट के राजस्व को रोज हजारो रुपयों का चुना लग रहा है।सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार आये दिन जिला के रेत खदान में हो रहे दादागिरी मारपीट के चलते ग्रामीणों के मन मे यह सवाल,सवाल ही बनकर रह जाता है,वे लोग खुलकर विरोध भी नही कर पा रहे है।जब कुल्हाड़ीकोट पैरी नदी में रेत  खदान में हाईवा लोड दो-दो चैनमाउंटें से लोडिंग करने एवं नियम से अधिक गहरायी रेत खनन के विषय मे जब खनिज विभाग के अधिकारी कर्मचारी का मोबाईल फोन से पक्ष लिया गया तो पल्ला झाड़ते हुए कहा की पर्यावरण विभाग किस स्थिति में ठेकेदार को चैनमाउंटें से रेत लोड करने की अनुमति दिया है,उनको वही जाने,आगे कहा की ,वो अनुमति हमारे विभाग द्वारा नही दिया गया है।