breaking news New

रोजगार गारंटी योजना के तहत खुलेआम भ्रष्टाचार, सचिव और सरपंच की खुली पोल

रोजगार गारंटी योजना के तहत खुलेआम भ्रष्टाचार, सचिव और सरपंच की खुली पोल

मालखरौदा।  मालखरौदा क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत चारपारा में रोजगार गारंटी योजना  के तहत खुलेआम भ्रष्टाचार की पोल खुली है।   ग्राम पंचायत चारपारा में  चखली तालाब में रोजगार गारंटी के तहत 8 लाख 69 हजार रुपए का कार्य स्वीकृत हुआ था,परंतु ग्राम पंचायत सचिव और  सरपंच की मनमानी से यह कार्य पूरा नहीं हो पाया और फर्जी तरीके से मास्टर रोल तैयार कर मूल्यांकन की गई है।  शायद ऐसा लगता है क्योंकि तालाब गहरीकरण  का कार्य अगर किया गया होता तो तालाब की मिट्टी को पार में हमेशा डाला जाता है परंतु तालाब के चारों और कहीं भी तालाब की मिट्टी नहीं दिख रही है। 


 तलाब में जिस हिसाब से पानी भरा है इससे ऐसा प्रतीत होता है कि गहरीकरण का कार्य नहीं हुआ है।   भ्रष्टाचार को छिपाने के लिए सरपंच सचिव इंजीनियर  रोजगार सहायक के द्वारा तलाव के पार में मिट्टी दिखाने के लिए अन्य जगहों से मिट्टी खोदकर ट्रैक्टर के माध्यम से तलाव के पार में डाला जा रहा है।  इस बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि अगर गहरीकरण हुआ होता तो मिट्टी तालाब के पार में जरूर होता  परंतु तालाब के पास किसी भी प्रकार की मिट्टी नहीं है इसीलिए इनके द्वारा ट्रैक्टर के माध्यम से तलाव के पारो मैं मिट्टी डाली जा रही है जबकि कहीं भी मनरेगा का कार्य आरंभ होता है तो सबसे पहले उस जगह पर बोर्ड लगाकर कार्य आरंभ दिवस पूर्ण दिवस लागत इस सब की जानकारी लिखी जाती है परंतु इस तालाब में केवल बोर्ड लगा दिया गया है।   


 ग्राम वासियों के द्वारा इसकी सूचना मीडिया में दी गई तब मीडिया के द्वारा उक्त जगह पर जाकर देखा गया तो कल  तालाब के पारो  में किसी भी प्रकार का गहरीकरण का मिट्टी नहीं पाया गया और ट्रैक्टर के माध्यम से अन्य जगह से मिट्टी लाकर डाला जा रहा  था।  जिसकी सूचना मुख्य कार्यपालन अधिकारी मालखरौदा एसएन वर्मा को दी गई तो उनके द्वारा टालमटोल का जवाब दिया गया और कहा गया कि मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है।  उसके बाद इसकी चर्चा जिला पंचायत सीओ   तीर्थराज अग्रवाल से चर्चा की गई और मौके की फोटो वीडियो बताए गए जिस पर उनके द्वारा तत्काल एपीओ सत्येंद्र पटेल एवं जनपद सीओ मालखरौदा को जांच के लिए निर्देश दिया गया परंतु मौके पर कोई भी अधिकारी नहीं पहुंचा और सरपंच सचिव इंजीनियर रोजगार सहायक की मिलीभगत से तालाब के पारो में मिट्टी डालने का कार्य किया जा रहा है  ऐसा लगता है  खबर लिखे जाने तक चकली तालाब के पास मालखरौदा से कोई भी अधिकारी मौके पर नहीं पहुंचा इससे ही प्रतीत होता है कि इनकी मिलीभगत शामिल है

 इस संबंध में जिला पंचायत सीईओ तीर्थराज अग्रवाल के द्वारा बताया गया कि आपसे मुझे यह जानकारी प्राप्त हो रही है और मैं तत्काल जनपद सीओ मालखरौदा को एपीओ सत्येंद्र पटेल को मौके का जांच निरीक्षण कर अवगत कराने के लिए निर्देश जारी करता हूं अगर मौका निरीक्षण के दौरान सही पाया जाएगा तो सरपंच सचिव इंजीनियर रोजगार सहायक के ऊपर कार्यवाही की जाएगी

इस संबंध में तकनीकी सहायक प्रीति दिव्य  के द्वारा बताया गया कि इस तालाब में मात्र 3 लाख  का ही कार्य हुआ है और बाकी राशि शेष है और चखली तालाब में कार्य कराया गया है परंतु तालाब के पारो में मिट्टी नहीं होने के  बात पर उनके द्वारा कोई जवाब नहीं दिया गया