सीजफायर की आड़ में लॉन्च पैड पर फिर सक्रिय हो चुके पाकिस्तानी आतंकवादी

सीजफायर की आड़ में लॉन्च पैड पर फिर सक्रिय हो चुके पाकिस्तानी आतंकवादी

वारदात को अंजाम देने के इरादे से कश्मीर में घुसपैठ कराने का बड़ा प्लान

नईदिल्ली। पाकिस्तानी सेना अफगानिस्तान से लगते किसी पहाड़ी इलाके में सीक्रेट जगह पर तालिबान, अफगान और पठान आतंकियों को हथियारों की ट्रेनिंग दे रही है. इन्हें पाकिस्तान के स्पेशल सर्विस ग्रुप के कमांडो ट्रेनिंग दे रहे हैं. ट्रेनिंग पूरी होने के बाद इन आतंकवादियों को कश्मीर घाटी में बड़ी वारदात को अंजाम देने के इरादे से घुसपैठ कराने का बड़ा प्लान है.

सूत्रों ने बताया कि पाक अधिकृत कश्मीर के कई लॉन्च पैड को पाकिस्तानी सेना सीजफायर की आड़ में फिर सक्रिय कर चुकी है. यहां पर करीब 380 से ज्यादा आतंकवादियों को इकट्ठा किया गया है. सुरक्षा इस्टैब्लिशमेंट की रिपोर्ट की मानें तो आतंकवादियों की ये संख्या पिछले महीने की तुलना में 20 फीसदी से ज्यादा है.

जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए 5 अगस्त को एक साल पूरा हो चुका है. पाकिस्तान की बौखलाहट का यही कारण है. वो घाटी में किसी बड़ी वारदात के जरिए दुनिया का ध्यान कश्मीर पर खींचना चाहता है. पाकिस्तान के नापाक मंसूबों को लेकर भारतीय सुरक्षा एजेंसियां घाटी में पूरी तरह चौकस हैं।   इस साल भारत की गोलियों से  करीब डेढ़ सौ आतंकी अब तक मारे जा चुके हैं.

 कश्मीर घाटी में आतंकियों के पिछलग्गू ओवरग्राउंड वर्कर्स को भी सुरक्षा एजेंसियां लगातार गिरफ्तार कर रही हैं. ये आतंकियों की परेशानी की बड़ी वजह है. इन ओवरग्राउंड वर्कर्स की कमी की वजह से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई एक नई खुराफात को अंजाम दे रही है.

खुफिया रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है कि महिला ग्राउंड वर्कर्स के जरिए विदेशी आतंकी लोकल मदद लेने में जुटे हुए हैं. ये मदद हथियारों और फंडिंग पहुंचाने, दोनों तरह की है.