राजनांदगांव : 'एक युद्ध कोरोना के विरूद्ध' अभियान के तहत 5 अक्टूबर को शहर के 51 वार्डों में शिविर

राजनांदगांव :   'एक युद्ध कोरोना के विरूद्ध' अभियान के तहत 5 अक्टूबर को शहर के 51 वार्डों में शिविर

राजनांदगांव .कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा की अध्यक्षता में आज 'एक युद्ध कोरोना के विरूद्ध' अभियान के तहत कोरोना संक्रमण की रोकथाम के संबंध में चर्चा करने के लिए कलेक्टोरेट सभाकक्ष में सभी सामाजिक संगठनों के प्रमुख एवं स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों की बैठक हुई। कलेक्टर  वर्मा ने कहा कि अब तक जिले में लगभग 8 हजार कोरोना पॉजिटिव केस आए हैं। जिनमें से नगर निगम क्षेत्र में लगभग 3 हजार लोग 50 प्रतिशत कोरोना से प्रभावित हुए हैं। सघन आबादी एवं व्यापार के लिए आवागमन की वजह से शहर में कोरोना संक्रमण की संभावना अधिक रहती है। उन्होंने कहा कि भविष्य में लॉकडाउन की स्थिति न बने इसके लिए सबका सजग रहना जरूरी है। उन्होंने कहा कि 'एक युद्ध कोरोना के विरूद्ध' अभियान के तहत 5 अक्टूबर को शहर के 51 वार्डों में शिविर लगाकर स्वास्थ्य विभाग की टीम द्वारा सुबह 10 बजे से शाम 6 बजे तक लगातार लगभग 5 हजार सैम्पल लिए जाएंगे। इसके लिए सभी प्रकार की आवश्यक व्यवस्था करने के लिए समाज के प्रतिनिधि एवं स्वयंसेवी संस्थाएं आगे आएं। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की टीम के लिए भी व्यवस्था एवं सैम्पल लेने के लिए विभिन्न स्थानों तथा कोरोना पॉजिटिव मरीजों के होम आइसोलेशन की भी व्यवस्था करनी होगी। जिसके लिए समाज तथा स्वयंसेवी संस्थाओं के सभी लोगों की सक्रिय सहभागिता एवं सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि आप सभी के सहयोग से लोगों की इस अभियान में भागीदारी बढ़ेगी। जनसामान्य में जागरूकता लाकर उन्हें अपने मोहल्ले में ही सैम्पल देने के लिए जागरूक करना होगा ताकि अधिक से अधिक लोग सैम्पल दें।

कलेक्टर  वर्मा ने कहा कि सर्दी, खांसी एवं बुखार आने पर जनसामान्य तत्काल इलाज कराएं। कोरोना वायरस हो तो तेजी से फैलता है। ऐसी स्थिति में सजगता ही एकमात्र उपाय है। मृत्यु दर को रोकने के लिए हरसंभव प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि अब तक जिले में 60 हजार सैम्पल लिए जा चुके हैं। अभी जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या में कमी आई है, लेकिन इसके बावजूद हमें सतर्क रहना होगा। विशेषकर 10 वर्ष से कम आयु के बच्चे, गर्भवती माताओं एवं बुजुर्गों के लिए यह बीमारी घातक है। सैम्पल लिए जाएंगे ताकि कोरोना की इस चेन को तोड़ा जा सके। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी हड़ताल पर रहे लेकिन इसके बावजूद स्वास्थ्य विभाग द्वारा वैकल्पिक व्यवस्था करते हुए लगातार 1200 से 1500 सैम्पल लिए गए। वहीं 250 से 300 आरटीपीसीआर टेस्ट किए जा रहे हैं। इसमें होने वाले विलंब को भी दूर करते हुए यथाशीघ्र करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मिथलेश चौधरी ने कहा कि संक्रमण में पिछले 10 दिनों में कमी आई है लेकिन यह कभी भी बढ़ सकता है। एक साथ 5 हजार लोगों की जांच करवाकर कोरोना पॉजिटिव मरीजों को आइसोलेट कर सकते हैं। इसके लिए सभी का सहयोग आवश्यक है। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग एवं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा सर्दी, खांसी एवं बुखार के मरीजों के लिए सर्वे भी किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 24 घंटे में लक्षण मिलने पर टेस्ट करवा लेने से इलाज जल्दी हो जाता है। नहीं तो ये बीमारी निमोनिया में परिवर्तित हो जाती है। गर्भवती माताओं, बुजुर्गों, सब्जी मंडी के व्यवसायी एवं हमाल, आटो रिक्शा के चालक जैसे चिन्हांकित क्षेत्र के लोग टेस्ट करवा ले तो हम कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोक पाएंगे।

श्री शांति विजय सेवा समिति के श्री भावेश बैद ने कहा कि वे अभियान में शामिल होने वाले स्वास्थ्य विभाग के 400 लोगों की टीम के लिए नाश्ता, चाय, भोजन एवं सेनेटाईजर की व्यवस्था करेंगे।  उन्होंने कहा कि मीडिया के माध्यम से भी लोगों में जागरूकता लाने की जरूरत है।  सचिन अग्रहरि ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव मरीजों के चिन्हांकन के लिए यह जरूरी है कि उन्हें सामने आकर सैम्पल देने के लिए प्रोत्साहित करना पड़ेगा। एबीस के श्री पंकज कुमार सिंह ने कहा कि लोगों के रूकने की व्यवस्था संस्थान द्वारा की जाएगी। मीडिया के  अखिलेश खोब्रागढ़े ने कहा कि इस अभियान में थर्ड जेन्डर को जोड़कर स्लम एरिया में जागरूकता लाई जा सकती है। मुस्लिम समाज के जावेद अंसारी ने सामाजिक भवन देने की बात कही।  गुरूमुख वाधवा ने भी सहयोग के लिए सहमति जताई। साहू समाज के कमल किशोर साहू ने कहा कि लोगों के मन से संशय एवं भ्रम निकालना होगा और उन्हें सैम्पल देने के लिए प्रेरित करना होगा। उन्होंने भवन उपलब्ध कराने की बात कही। समता जनकल्याण समिति के  शिशुपाल खोब्रागढ़े ने कोरोना संक्रमण के जागरूकता के संबंध में कोरोना रथ प्रचार-प्रसार तैयार करने की बात कही।

इस अवसर पर अपर कलेक्टर  सीएल मारकण्डेय, जिला पंचायत सीईओ श्रीमती तनुजा सलाम, नगर निगम आयुक्त  चंद्रकांत कौशिक, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक  सुरेशा चौबे, एसडीएम  मुकेश रावटे सहित समाजसेवी, स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि उपस्थित थे।