breaking news New

रमनसिंह बताएं कि मूणत ने खरीद—फरोख्त के 7 करोड़ कहां से जुटाए : सुशील आनंद शुक्ला

रमनसिंह बताएं कि मूणत ने खरीद—फरोख्त के 7 करोड़ कहां से जुटाए : सुशील आनंद शुक्ला


रायपुर. प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि अंतागढ़ मामला भारत के लोकतंत्र का काला अध्याय है। रमन सिंह अब भोले बनने की नौटंकी करना बंद करे। पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह अंतागढ़ मामले मंतूराम पवार के न्यायालय में 164 के बयान के बाद बगुला भगत बनने की नौटंकी कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मंतूराम के बयान के बाद रमन सिंह के चेहरे के पीछे का अधिनायकवादी और षड्यंत्रकारी चेहरा बेनकाब हो गया है। सभी समझ रहे है मंतूराम के चुनाव मैदान से हटने का किसको फायदा होने वाला था ? क्यों रमन के मंत्री मूणत ने खरीद फरोख्त के लिए 7 करोड़ दिए थे? प्रदेश की जनता भली भांति जान चुकी है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने कांग्रेस के प्रत्याशी को चुनाव मैदान से हटाने का अलोकतांत्रिक षड्यंत्र रचा था। मंतूराम के कोर्ट में दिए गए बयान से यह भी साफ हो गया है कि पूरे मामले में काली कमाई के 7 करोड़ रु. की सौदेबाजी हुई थी।

प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि आज जब उनके गुनाह का खुलासा हो रहा तब वे विपक्ष के प्रताड़ित होने की दुहाई देकर बचने का रास्ता तलाश रहे है। जब अंतागढ़ उपचुनाव में कांग्रेस के प्रत्याशी को मैदान से हटाने के लिए धन बल और सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग कर सत्ता का नंगा नाच करवाया था तब विपक्ष के अधिकारों की याद नही आई थी। मंतूराम के नाम वापसी के बाद कांकेर पहुंचे तत्कालीन प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल के होटल की बिजली कटवा कर भय फैलाने के लिए पुलिस के जवानों की परेड करवाते समय उन्हें विपक्ष के अधिकारों की याद नही आई थी। अंतागढ़ उपचुनाव के निर्दलीय प्रत्याशियों को कांग्रेस पदाधिकारी के घर से दरवाजा तोड़ कर जबरिया उठवाते समय रमन सिंह को लोकतंत्र में विपक्ष के संरक्षण की याद नही आई तब तो सत्ता बल में भूल गए थे कि जिस जनता ने उन्हें मुख्यमंत्री बनाया था वह जनता अहंकार और सत्ता के अतिवादी चरित्र को पसंद नही करती।