breaking news New

महासमुन्द के खेतों में, आम के वृक्षों के नीचे, खुले में, पैरा मशरूम उत्पादन: हिमाचल प्रदेश में सम्मान

महासमुन्द के खेतों में, आम के वृक्षों के नीचे, खुले में, पैरा मशरूम उत्पादन: हिमाचल प्रदेश में सम्मान

प्रति दिन 3 से 5 किलो पैरा मशरूम की फसल ले रहे 

महासमुन्द, 13 सितम्बर। छत्तीसगढ़ के नवाचारी मशरूम उत्पादक किसान राजेन्द्र कुमार साहू को मशरूम उत्पादन में नवाचार तथा उपलब्ध संसाधनों के बेहतर उपयोग के लिए राष्ट्रीय सम्मान प्राप्त हुआ है। महासमुंद जिले के बसना विकासखण्ड के ग्राम पटियापाली के किसान राजेन्द्र कुमार साहू को मशरूम अनुसंधान निदेशालय सोलन हिमाचल प्रदेश द्वारा प्रगतिशील मशरूम उत्पादक सम्मान से नवाजा गया है। श्री साहू को यह सम्मान उनके खेतों में आम के वृक्षों के नीचे खुले में पैरा मशरूम उत्पादन की नई तकनीक विकसित करने के लिए प्रदान किया गया है। साहू इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय की मशरूम अनुसंधान प्रयोगशाला के वैज्ञानिकों के मार्गदर्शन में विगत 12 वर्षों से मशरूम का उत्पादन एवं विपणन कर रहे हैं। वे अपने खेतों में प्रति दिन 3 से 5 किलो पैरा मशरूम की फसल ले रहे हैं जो उनके खेत से ही 200 से 300 रूपए प्रति किलो की दर पर बिक्री हो जाती है। उल्लेखनीय है कि मशरूम अनुसंधान निदेशालय सोलन द्वारा 10 सितम्बर को मशरूम मेले का आयोजन किया गया था जहां छत्तीसगढ़ के मशरूम उत्पादक किसान राजेन्द्र साहू को नवीन एवं प्रगतिशील मशरूम उत्पादक के रूप में सम्मानित किया गया। निदेशालय के वैज्ञानिकों द्वारा पिछले वर्ष इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के मशरूम वैज्ञानिकों के साथ साहू के प्रक्षेत्र का भ्रमण किया गया था और उनके द्वारा विकसित खुले में पैरा मशरूम उत्पादन तकनीक की सराहना की थी। इस तकनीक में उनके द्वारा आम के पेड़ों की छांव में लोहे की पाईपों पर धान के ग_ों में पैरा मशरूम का उत्पादन किया जा रहा है। 

गौरतलब है कि साहू मशरूम उगाने के लिए मशरूम स्पॉन बीज का उत्पादन भी स्वयं ही करते हैं। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ् एसके पाटील के निर्देश पर मशरूम अनुसंधान प्रयोगशाला द्वारा उन्हें मशरूम स्पॉन तैयार करने हेतु आवश्यक प्रशिक्षण तथा उपकरण प्रदान किये गये हैं। श्री साहू मशरूम उत्पादन के उपरान्त अवशिष्ट पदार्थ से केंचुआ खाद का निर्माण एवं विक्रय भी करते हैं। इसके साथ ही वे आस-पास के कृषकों को केंचुओं का विक्रय कर अतिरिक्त आमदनी भी प्राप्त कर रहे हैं।