कोरोना महामारी बनी परमानेंट स्वास्थ्य जांच संस्थायों के लूट का जरिया -तरुणा बेदरकर

कोरोना महामारी बनी परमानेंट स्वास्थ्य जांच संस्थायों के लूट का जरिया -तरुणा बेदरकर

जगदलपुर, 29 सितंबर। आम आदमी पार्टी बस्तर इकाई द्वारा जगदलपुर के निजी पैथोलॉजी संस्थानों द्वारा राज्य सरकार द्वारा निर्धारित राशि से अधिकतम लेने के मामले में रोकथाम और कड़ी कार्यवाही की मांग को लेकर जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा गया।

कोरोना महामारी के समय मे लोगों के पास काम काज नही है घर चलाने के लिए लोगों को मसक्कत करनी पड़ रही है ऐसे समय मे जगदलपुर स्थित निजी जांच संस्थान चिखलिकर सकैन एंड रिसर्च सेंटर और युवी डाइग्नोसिस नया पारा आपदा को अवसर मानते हुए लोगों को लूटने का जरिया बनाया हुआ है ऐसा आम आदमी पार्टी जिलाध्यक्ष तरुणा बेदरकर ने बताया और आगे जानकारी देते हुए कहा कि राज्य शासन में चेस्ट सिटी सकैन के लिए एक निश्चित राशि तय की ।उन नियमों का उलंघन करते हुए 5000/ - और 5500/-रु लेते हुए नियमो की अवहेलना इन निजी संस्थानों द्वारा किया जा रहा है और लूट का बाजार इनका गर्म है।


कोरोना के इस आपदा में लोगों को आर्थिक रूप से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है ।इसी के चलते राज्य शासन ने 1870/- रु (सिटी सकैन विद आउट कंट्रास्ट फार लंग्स) और 2354/-रु (सिटी स्कैन विद कंट्रास्ट फार लंग्स) के लिए निश्चित किया गया है जिसे सभी  पैथोलॉजी को अनिवार्य रूप से मानने का आदेश है ।इसके बावजूद भी इस संस्थानों द्वारा इस आदेश की दज्जिया उठाते हुए अवैध रूप से ज्यादा वसूली की जा रही है ।जिसकी शिकायत आम आदमी पार्टी बस्तर ने कलेक्टर से की है और मांग किया गया है कि ऐसे लूट वसूली करने वाले संस्थानों पर तुरन्त ही रोक लगाई जाए।उन पर कड़ी कार्यवाही की जाए ताकि जनता को इस महामारी में अतिरिक्त बोझ का सामना ना करना पडे।

आम आदमी पार्टी के इस ज्ञापन जगदलपुर अध्यक्ष नवनीत सराठे,जिला सचिव गीतेश सिंघाड़े,सुमित देवांगन के साथ अन्य शामिल थे।