breaking news New

Exclusive_Photo : चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग के स्वागत के लिए आज ऐसा सजा-धजा है मामल्लापुरम, देखें तस्वीरें

Exclusive_Photo : चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग के स्वागत के लिए आज ऐसा सजा-धजा है मामल्लापुरम, देखें तस्वीरें

महाबलिपुरमः चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और पीएम मोदी की अनौपचारिक बैठक आज चेन्नई के महाबलिपुरम में होगी. बैठक में बातचीत के एजेंडे को लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आई है. माना जा रहा है कि इस बैठक में द्विपक्षिय संबंध, बेहतर रिश्ते और आतंकवाद को लेकर दोनों देशों के बीच रणनीति पर चर्चा हो सकती है. बैठक के लिए शई जिनपिंग दो दिवसीय यात्रा पर भारत आएंगे.

मामल्लापुरम के 'पंच रथों' के पास डिपार्टमेंट ऑफ हॉटीक्लचर ने एक विशाल गेट सजाया है, जहां आज पीएम नरेन्द्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति जिनपिंग के आने की उम्मीद है. इस सजावट में राज्य के विभिन्न हिस्सों से लाई गई सब्जियों और फलों की 18 किस्में उपयोग की गई हैं.

जिनपिंग के स्वागत के लिए महाबलीपुरम तैयार है. 35 जगहों पर होगा सांस्कृतिक कार्यक्रम और सुरक्षा में 10 हजार पुलिसवाले तैनात हैं. चीनी राष्ट्रपति अपनी होंगशी कार में सवार होकर हवाई अड्डे से होटल और फिर वहां से महाबलिपुरम का सफर तय करेंगे. जिनपिंग शाम 4 बजे चेन्नई से महाबलिपुरम के लिए रवाना होंगे.

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की अगवानी के लिए पीएम मोदी पहले ही महाबलीपुरम पहुंच जाएंगे. पीएम मोदी चेन्नई से हेलीकॉप्टर के रास्ते महाबलीपुरम पहुंचेंगे और वहां फिशरमैन कोव होटल में रुकेंगे. शी जिनपिंग दोपहर करीब 2.10 बजे चेन्नई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे. एयरपोर्ट पर चीनी राष्ट्रपति की अगवानी राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित और मुख्यमंत्री ई पनीर सेल्वम करेंगे.

एयरपोर्ट पहुंचने के बाद टप्पू (पारंपरिक तमिल ढोल) की थाप और कोम्बू (तमिल तुरही वाद्य यंत्र) के ध्वनि और नादस्वराम के घोष के साथ अलग-अलग नित्य कार्यक्रम पेश किए जाएंगे. इस कार्यक्रम को पेश करने के लिए 350 कलाकर भाग लेंगे. वहीं 40 पारंपरिक भरतनाट्यम कलाकार उस वक्त स्वागत मुद्राओं में नृत्य करते नजर आएंगे.

चीनी राष्ट्रपति अपनी होंगशी कार में सवार होकर हवाई अड्डे से होटल और फिर वहां से महाबलिपुरम का सफर तय करेंगे. जिनपिंग शाम 4 बजे चेन्नई से महाबलिपुरम के लिए रवाना होंगे. चीनी राष्ट्रपति सड़क से सफर करेंगे. इस कारण पूरे रास्ते पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं. रास्तों को चीनी झंडे और तिरंगों से सजाया गया है. यात्रा की सुरक्षा के लिए करीब 10 हज़ार पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है. इनमें से 4 हजार पुलिसकर्मी केवल महाबलीपुरम में तैनात होंगे.

चप्पे-चप्पे पर निगरानी रखने के लिए सीसीटीवी कैमरों का जाल भी बिछाया गया है. इसके अलावा बंगाल की खाड़ी के किनारे बसे इस शहर में होने वाली बैठक को देखते हुए तटरक्षक बल के गश्ती जहाज और नौसेना के पोत की भी तैनाती की गई है.

देखिए कैसे सजा है मामल्लापुरम :