breaking news New

संवेदनशील क्षेत्रों में झोलाछाप डॉक्टरों की बाढ़, विभाग मौन

 संवेदनशील क्षेत्रों में झोलाछाप डॉक्टरों की बाढ़, विभाग मौन

कोंडागांव, 14 सितंबर।  नगर में स्थित एक मेडिकल  स्टोर से बड़ी मात्रा में दवाई एक ग्रामीण व्यक्ति द्वारा ले जाया जा रहा है, जिसकी सूचना तत्काल कोंडागांव एएसपी अनंत साहू को दी गई। सूचना पर कार्यवाही करते हुए कोंडागांव कोतवाली में दवाइयों के साथ उस व्यक्ति को भी लाया। पूछताछ में व्यक्ति ने अपना नाम अनादि सिंह बताया और पूरी दवाइयों को अरिहंत मेडिकल स्टोर कोंडागांव से लेना बताया। 
अनादि सिंह ने बताया कि वह एक डॉक्टर  (झोलाछाप डॉक्टर) है और कोंडागांव के नारायणपुर मार्ग पर स्थित ग्राम कोकोडी (किवई बालेंगा ) में निवासरत है और ग्रमीणों के इलाज के लिये भारी मात्रा में दवाई लेकर जा रहा था, अनादि सिंह का आगे कहना है कि बरसात की वजह से गांव में अचानक बाढ़ आ जाता है और उसकी स्वयं की तबियत भी कुछ ठीक नही रहती इसलिए एक ही बार में अधिक मात्रा में दवाइयों को लेकर जा रहा था। आपको बता दें कि ग्राम कोकोड़ी के आसपास नक्सली गतिविधियों को लगातार देखा गया है और कुछ दिन पहले ही बस में आगजनी और लूटपाट की घटना भी हो चुकी है। कोकोड़ी नक्सली प्रभावित क्षेत्र होने की वजह से इस संभावना से इंकार नहीं किया जा सकता कि इस तरह के डॉक्टर नक्सलियों को भी दवाइयों की सप्लाई करते होंगे और उनके इलाज में भी मदद करते होंगे। पूरा मामला गंभीर और संदिग्ध नजर आता है, जिसकी कड़ाई से जांच की जानी चाहिए और इस इस तरह के झोलाछाप डॉक्टरों पर लगाम लगानी चाहिए। वहीं अपने कब्जे में लेने के बाद कोंडागांव पुलिस ने मामले की जांच कर क्षेत्रीय ड्रग इंस्पेक्टर सुखचैन धुर्वे को भी कोतवाली बुलवाया लेकिन इस मामले में डी.आई. कोतवाली आने में आनाकानी करते हुए देर शाम कोतवाली पहुंचे ओर विभागीय कार्यवाही के नाम पर  केवल खाना पूर्ति की, जिसमे यह साफ  पता चल रहा था कि डीआई ( ड्रग इंस्पेक्टर) दुकानदारों पर मेहरबान है उन्हें बचाने की भरपूर कोशिश करते नजर आये।  गौरतलब है कि कोंडागांव में मेडिकल दुकान संचालकों को दवाइयों के चिल्हर विक्रय का लाइसेंस शासन से प्राप्त है, लेकिन वे धड़ल्ले से जिले के संवेदनशील इलाको में थोक मात्रा में दवाइया सप्लाई कर रहे है, जिस पर खाद्य एवं औषधि विभाग के अधिकारियों ने भी अपनी मौन स्वीकृति दे रखी है। जिले में स्थित इस तरह से अधिक मात्रा में दवाईयों को बिना किसी पक्के  बिल व लेखा-जोखा के भारी मात्रा में विक्रय करने वाले मेडिकल दुकान संचालकों पर कड़ी कार्यवाही की जानी चाहिए। 
कल दवाइयों का एक बॉक्स पुलिस ने दोपहर को पकड़ा था जिसे ड्रग इंस्पेक्टर को सौप दिया गया है, उन्हें मामले की जाँच के लिए कहा गया है।
अनंत साहू
एएसपी कोंडागांव