आत्म निर्भर भारत बनाने के लिए वोकल फॉर लोकल के तहत भाजपा करेगी युवाओं को जागरूक

आत्म निर्भर भारत बनाने के लिए वोकल फॉर लोकल के तहत भाजपा करेगी युवाओं को जागरूक

जगदलपुर, 30 सितंबर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन सेवा सप्ताह के दूसरे चरण 25 सितंबर से 2 अक्टूबर तक भारतीय जनता पार्टी जिला बस्तर द्वारा विभिन्न कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। इसी कड़ी में 28 से 30 सितंबर तक आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए वोकल फ़ॉर लोकल अभियान पर जिला स्तरीय सोशल मीडिया में प्रचार प्रसार किया जा रहा है केंद्र की भाजपा सरकार द्वारा आत्म निर्भर भारत के निर्माण के लिए 20 लाख करोड़ का पैकेट जारी किया गया है देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए वोकल फ़ॉर लोकल का मंत्र दिया है भारत वासियों के लिए भी स्वावलंबन की मुराद उतनी ही पुरानी है जितना पुराना हमारा आधुनिक इतिहास है,लेकिन अब से पहले देश के सिर्फ स्तर से भारत की आत्मनिर्भरता को राष्ट्रीय मुहिम बनाने की पेशकश पहले कभी नहीं हुई इसलिए आत्मनिर्भरता के मंत्र का महत्व वोकल फ़ॉर लोकल के नारे के साथ बेहद बढ़ जाता है दुनिया का हर एक समाज हर एक देश खुद को आत्मनिर्भर बनाने और अपने उत्पादों के ज्यादा से ज्यादा निर्यात का सपना देखता है और फिर इस सपने को साकार करने के लिए ही अपनी नीतियां बनाता है नीतियों को लागू करता है हमारे देश का भी यह सपना पूरा हो और हर कोई पूरे समर्पण के साथ स्वदेशी पर गर्व करने और इसे बढ़ावा देने के सपने को साकार करने में पूरी ताकत से जुड़ जाएं इसके लिए देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को आत्मनिर्भर और वोकल फ़ॉर लोकल के दो मंत्र दिए हैं दोनों मंत्र परस्पर एक दूसरे के जुड़े हुए हैं अनुपूरक है। आत्मनिर्भरता का सीधा संबंध क्वालिटी से होता है। 

इसी विषय पर भाजपा जिला अध्यक्ष रूप सिंह मंडावी ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से बताते हुए कहा कि कोई भी मिशन जन भागीदारी के बिना पूरा नहीं हो सकता इसलिए आत्मनिर्भर भारत की दिशा में एक नागरिक के तौर पर हम सब का संकल्प समर्पण और सहयोग बहुत जरूरी है आप लोकल खरीदेंगे लोकल के लिए वोकल होंगे तो समझिए आप देश को मजबूत करने में अपनी भूमिका निभा रहे हैं कुछ दिन पहले स्पेस सेक्टर में ऐतिहासिक सुधार किए गए इससे आत्मनिर्भर भारत के अभियान को ना केवल गति मिलेगी बल्कि देश टेक्नोलॉजी में भी आधुनिक बनेगा कृषि क्षेत्र को देखे तो इस सेक्टर में भी बहुत सारी चीजें दशकों से लॉक डाउन में फंसी थी इस सेक्टर को भी अब आजाद कर दिया गया है इससे जहां एक तरफ किसानों को अपनी फसल कहीं पर भी किसी को भी बेचने की आजादी मिली है वहीं दूसरी तरफ उन्हें अधिक ऋण मिलना भी सुनिश्चित हुआ है। ऐसे अनेक क्षेत्र हैं जहां हमारा देश इन सब संकटो के बीच ऐतिहासिक निर्णय लेकर विकास के नए रास्ते खो रहा है कोरोना के खिलाफ भारत की लड़ाई बड़ी है हर देशवासी संकल्प से भरा है आपदा को अवसर में बदलना है आत्मनिर्भर बनाने का अवसर है आत्मनिर्भर भारत अभियान को आगे लेकर जाना है उन्होंने आगे कहा कि लोकल के लिए वोकल होने का समय आ गया है देश के विकास में युवा आगे आएं स्वदेशी सामानों का इस्तेमाल बढ़ाने की जरूरत है केंद्र सरकार की कोशिश किसानों को सशक्त बनाने की है आत्मनिर्भरता के पाठ की शुरुआत अपने परिवार से करें छोटे दुकानदारों से सामान खरीदें भारत बड़ा निर्यातक कैसे बने सोचना होगा एक राष्ट्र के रूप में आज हम एक बहुत ही अहम मोड़ पर खड़े हैं इतनी बड़ी आपदा भारत के लिए एक संकेत लेकर आई है एक संदेश लेकर आई है एक अवसर लेकर आई है एक उदाहरण जब कोरोना संकट शुरू हुआ तो भारत में एक भी पी पी ई किट नहीं बनती थी N-95 मास्क का भारत में नाम मात्र उत्पादन होता था।

 आज स्थिति यह है कि भारत में ही हर रोज दो लाख PPE और दो लाख N-95 मास्क बनाए जा रहे हैं। यह हम इसलिए कर पाए क्योंकि भारत ने आपदा को अवसर में बदल दिया आपदा को अवसर में बदलने की भारत की ये दृष्टि आत्म निर्भर भारत के हमारे संकल्प के लिए उतनी प्रभावी सिद्ध होने वाली है हाल में सरकार ने कोरोना संकट से जुड़ी जो आर्थिक घोषणा की थी जो रिजर्व बैंक के फैसले थे और जिस आर्थिक पैकेज का ऐलान हुआ है। उसे जोड़ दें तो यह करीब-करीब 20 लाख करोड़ रुपए का है यह पैकेज भारत की जीडीपी का करीब करीब 10 प्रतिशत है इन सबके जरिए देश के विभिन्न वर्गों को आर्थिक व्यवस्था की कड़ियों को 20 लाख करोड़ रुपए का संबल मिलेगा 20 लाख करोड़ रुपए का यह पैकेज 2020 में देश की विकास यात्रा को आत्मनिर्भर भारत अभियान को एक नई गति देगा आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को सिद्ध करने के लिए इस पैकेज में जमीन मजदूर तरलता और कानून सभी पर बल दिया गया है ये आर्थिक पैकेज हमारे कुटीर उद्योग गृह उद्योग हमारे लघु मंझोले उद्योग हमारे एम एस एम ई के लिए है जो करोड़ों लोगों की आजीविका का साधन है जो आत्मनिर्भर भारत के हमारे संकल्प का मजबूत आधार हैं। यह आर्थिक पैकेज देश के उस श्रमिक के लिए है देश के उस किसान के लिए है जोहर स्थिति हर मौसम में देशवासियों के लिए दिन-रात परिश्रम कर रहा है ये आर्थिक पैकेज हमारे देश के मध्यम वर्ग के लिए है जो इमानदारी से टेक्स देता है देश के विकास में अपना योगदान देता है ये आर्थिक पैकेज भारतीय उद्योग जगत के लिए है जो भारत के आर्थिक सामर्थ्य को बुलंदी देने के लिए संकल्पित है कोरोना संकट ने हमें स्थानीय निर्माता स्थानीय बाजार स्थानीय सप्लाई चेन का भी महत्व समझाया है संकट के समय में स्थानीय बाजार में ही हमारी जरूरत पूरी की है हमें इस स्थानीय ने ही बचाया है आज से हम भारतवासी को अपने लोकल के लिए वोकल बनना है ना सिर्फ लोकल उत्पाद खरीदने हैं बल्कि उनका गर्व से प्रचार भी करना है हम भारत को आत्मनिर्भर भारत बना सकते हैं हम भारत को आत्मनिर्भर बनाकर रहेंगे।