breaking news New

सोशल मीडिया पोस्ट पर हो सकती है 3 साल तक की सजा, केरल पुलिस अधिनियम में बदलाव की तैयारी में, चिदंबरम ने जताया विरोध

सोशल मीडिया पोस्ट पर हो सकती है 3 साल तक की सजा, केरल पुलिस अधिनियम में बदलाव की तैयारी में, चिदंबरम ने जताया विरोध

केरल. अब सोशल मीडिया पर कोई भी अपमानजनक पोस्ट लिखना भारी पड़ सकता है। केरल सरकार ने राज्य पुलिस अधिनियम में संशोधन के लिए अधिसूचित किया है। जिसके तहत सोशल मीडिया पर कुछ भी "अपमानजनक" पोस्ट करने के लिए तीन साल तक की जेल की सजा सुनाई जा सकती है। जबिक सुप्रीम कोर्ट ने 2015 में इसी तरह के कानून को खारिज कर दिया था।

इधर इस नए प्रस्तावित कानून पर पूर्व केंद्रीय वित्त मत्री पी चिदंबरम ने नाराजगी जताई है. केरल पुलिस अधिनियम में होने वाला ये संशोधन एक नया प्रावधान शामिल करता है - जो है धारा 118A। ये कहता है "जो कोई भी किसी भी तरह के संचार, किसी भी मामले या विषय के माध्यम से किसी व्यक्ति को धमकाने, अपमानित करने या बदनाम करने के लिए कुछ भी प्रकाशित करता है तो उसे तीन साल तक की कैद हो सकती है या 10,000 रुपये के जुर्माना या सजा के रूप में दोनों दिए जा सकते हैं।

ऐसा कहा गया है कि ये संशोधन महिलाओं के ऑनलाइन उत्पीड़न पर अंकुश लगाने के लिए तीव्रता से पेश किया गया। लेकिन ये अध्यादेश अपनी अस्पष्ट और व्यापक परिभाषा के कारण सरकार के आलोचकों को निशाना बनाने के लिए पुलिस को सशक्त बना सकता है। धारा 118ए विशेष रूप से महिलाओं या बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराधों के लिए कोई संदर्भ नहीं देती है। सीएम पिनाराई विजयन की अगुवाई वाली एलडीएफ सरकार की सोने की तस्करी मामले में फंसी हुई है, जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी इस मामले की जांच रही है।
.