breaking news New

जेएनयू विवाद : केटीयू के विदयार्थियों ने किया समर्थन, 20 को एकदिवसीय महाधरना

जेएनयू विवाद : केटीयू के विदयार्थियों ने किया समर्थन, 20 को एकदिवसीय महाधरना

रायपुर. दिल्ली के जेएनयू के विवादित मामलों की गूँज प्रदेश की राजधानी में भी सुनाई दे रही है। रायपुर के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के विदयार्थियों ने जेएनयू का समर्थन करते हुए शिक्षा के निजीकरण, व्यापारीकरण और गुणवत्ताविहीन शिक्षा के साथ—साथ गरीब छात्रों को सस्ती शिक्षा मिलने के सम्बन्ध में एक दिवसीय महाधरना प्रदर्शन का ऐलान किया है। इस धरना प्रदर्शन के लिए कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविदयालय के पुराने छात्रों का भी समर्थन मिल रहा है।

एनएसयूआई अध्यक्ष (ग्रामीण) और केटीयू के भूतपूर्व छात्र हनी सिंह बग्गा ने जेएनयू के समर्थन में 20 नवम्बर को महाधरना का ऐलान करते हुए कहा कि देश में एक ऐसा संस्थान है जहाँ गरीब से गरीब छात्रों को पढ़ने का अवसर मिल रहा है। लेकिन वर्तमान में जिस तरह से शिक्षण संस्थानों में फीस को लेकर बढ़ोत्तरी हो रही है, अच्छी सुविधाओं के नाम पर मनमाने ढंग से पैसे वसूले जा रहे हैं। ऐसे में प्रतिभावान गरीब छात्रों को अच्छे शिक्षण संस्थानों में शिक्षा नहीं मिल पा रही है।

एनएसयूआई प्रदेश प्रवक्ता और केटीयू के भूतपूर्व छात्र तुषार गुहा ने धरना प्रदर्शन के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि जेएनयू के छात्रों की व्यक्तिगत विचारधारा और उनके अन्य गतिविधियों को छोड़ दें तो विश्वविद्यालय ने कई ऐसे होनहार छात्र दिए हैं जो देश के महत्वपूर्ण पदों पर विराजमान हैं। गरीब छात्र जिसमे प्रतिभा है और पढ़ने के लिए लालायित है तो जेएनयू ऐसी जगह है जहाँ छात्रों के सपनों को उड़ान मिलती है। केटीयू भी ऐसा ही संस्थान है जहाँ से कई होनहार पत्रकार निकले हैं। आज शिक्षा के क्षेत्र में सबसे बड़ी समस्या फीस में बढ़ोत्तरी होना है, इसलिए केटीयू के छात्रों के द्वारा समस्त छात्रहित में धरना किया जायेगा। 

बता दें कि हाल ही में जेएनयू के हॉस्टल की फीस में वृद्धि हुई थी जिससे छात्र नाराज थे और लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन इसके बावजूद फीस कम नहीं हुई है। आगे चलकर कुशाभाऊ ठाकरे विश्वविद्यालय द्वारा भविष्य में ऐसा कदम ना उठाया जाये इसलिए एकदिवसीय महाधरना के द्वारा छात्र अपनी बात रखेंगे।