breaking news New

SDM सुभाष राज ने किया क्वारंटाइन सेंटरो का निरिक्षण

SDM सुभाष राज ने किया क्वारंटाइन सेंटरो का निरिक्षण


सक्ती, 06 जून । अनु विभागीय अधिकारी डॉ सुभाष  सिंह राज के द्वारा  द्वारा अनुभाग क्षेत्र अंतर्गत निरीक्षण के दौरान भेड़िकोना तथा जैजैपुर ब्लाक के कैथा  पहुंचे यहां कैथा सेंटर में सचिव रोहित यादव अनुपस्थित पाया गया जिस पर एसडीएम के द्वारा सचिव रोहित यादव को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया एसडीम द्वारा सभी क्वारेटाईना सेंटरों का लगातार  निरीक्षण कर प्रवासी मजदूरों का हाल-चाल जानने के लिए सेंटरों में जा रहे हैं.

ताकि प्रवासी मजदूरों को किसी भी प्रकार की सेंटरों में परेशानी ना हो कोविड 19 कोरोना वायरस महामारी संक्रमण के चलते जिले में लॉक डाउन लागू है तथा अन्य राज्य से आने वाले प्रवासी मजदूरों के रहने के लिए जगह जगह कवारेंटाइन सेंटर बनाया गया है जिसमें मजदूरों को रखा गया लगातार  करोना पॉजिटिव  मरीज  की बढ़ोतरी को लेकर चिंतित  सुभाष सिंह राज के द्वारा  सेंटरों में जाकर सभी सुरक्षा  इंतजाम सही तरीके से   पालन हो रहा है.


या नहीं सेंटरों में  कर्मचारियों की  ड्यूटी लगी है उनके द्वारा सही रूप से पालन किया जा रहा है या नहीं यह सब स्वयं मौके पर पहुंचकर जानकारी ले रहे किसी भी प्रकार की कमी किसी सेंटरों में पाई जा रही है उसका तत्काल निदान किया जा रहा है वहीं अनुपस्थित अगर कोई कर्मचारी पाया जाता है उन पर तत्काल कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब मांगा जा रहा है जहां बाहर राज्य से आये मजदूरों के बीच पहुंचकर उन्हें संदेश देते हुए कहा जा रहा है.

कि किसी भी प्रकार की आप लापरवाही ना बरतें शासन के नियमानुसार सुरक्षा बनाकर रखें और किसी भी प्रकार का परेशानी हो तो तत्काल सेंटर  प्रभारी को अवगत कराएं सेंटरों में मादक पदार्थ का सेवन तथा भागने का प्रयास या सेंटर  ड्यूटी में तैनात कर्मचारियों के साथ किसी भी प्रकार का आप लोगों के द्वारा  दुर्व्यवहार न करें वही सभी सेंटर प्रभारियों को निर्देश देते हुए कहा गया कि सेंटरों में रहने वाले प्रवासी मजदूरों को किसी भी प्रकार की परेशानी होती है.

उसका तत्काल समाधान करें और आप लोगों से ना हो तो मुझे अवगत कराएं ताकि रहने वाले मजदूरों को किसी भी प्रकार की परेशानी नहीं होना चाहिए सेंटर में रहने वाले मजदूर अगर किसी से दुर्व्यवहार करते हैं और मादक पदार्थों का सेवन करते हैं तो उनके विरुद्ध धारा 188,269भादवि, महामारी अधिनियम 1897 की धारा 3 के तहत अपराध पंजीबद्ध  किया जाएगा।