आमनदुला के सरपंच-सचिव पर लगा मूलभूत और 14 वें वित्त के राशि का फर्जी बिल लगाकर गबन करने का आरोप, जांच टीम पहुँची ग्राम पंचायत

आमनदुला के सरपंच-सचिव पर लगा मूलभूत और 14 वें वित्त के राशि का फर्जी बिल लगाकर  गबन करने का आरोप, जांच टीम पहुँची ग्राम पंचायत

रामनारायण गौतम 

सक्ती, 27 सितंबर। प्रत्येक ग्राम पंचायतों को गांव के विकास और  मूलभूत सुविधाओं के लिए  शासन द्वारा मूलभूत राशि एवं 14 वें वित्त योजना के तहत सरकार ग्राम पंचायतों में लाखो रुपये खर्च करने देती है जिससे ग्राम पंचायत का विकास हो  सरपंच सचिव उन पैसों से  सही उपयोग कर  गांव के लोगों का मदद कर सके और गांव का विकास कर सके मगर सरकार और जनता के विश्वास को तोड़कर पैसो का दुरुपयोग करने और अपने जेब भरने वाले  कई सरपंच सचिव  होते हैं, कुछ ऐसा ही उदाहरण  जाँजगीर चापा जिले के मालखरौदा जनपद पंचायत में देखने को मिला जहां ग्राम पंचायत आमनदुला में सरपंच और सचिव पर 14 वें वित्त  और मूलभूत के राशि को बिना कार्य करे फर्जी बिल व्हाउचर लगा कर गबन करने का आरोप लगा है।


ग्राम पंचायत आमनदुला के ग्राम पटेल और पूर्व सरपंच कवि वर्मा ने मालखरौदा जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी से लिखित में शिकायत कि गई  ग्राम पंचायत आमनदुला के सरपंच और सचिव द्वारा 14 वें वित्त के राशि और मूलभूत के राशि का  फर्जी बिल व्हाउचर लगा कर गबन किया है। इसी शिकायत को लेकर मालखरौदा जनपद से जांच टीम दिनांक 24/09/2020 को ग्राम पंचायत  आमनदुला पहुँचे , जांच टीम ने कहा की उनके द्वारा शिकायत कर्ता, गांव के ग्रामीण और सरपंच - सचिव सभी का बयान लिया गया है  बाकी की जांच का कार्य अन्य दिन आकर  कार्यो का  भौतिक सत्यापन  जांच कर जाँच प्रतिवेदन अधिकारी को सौंपा जाएगा  अधिकारी के व्दारा आगे की  उचित कार्यवाही कि जाएगी.


इस जांच कार्यवाही में  जांच अधिकारियों के द्वारा धारा 144  के आदेश को दरकिनार कर जांच किया गया जबकि जिला कलेक्टर के द्वारा पूरे जिले में धारा 144 लगाई गई है परंतु जांच अधिकारी भारी संख्या में ग्रामीणों को बैठा कर धारा 144 खुला   उल्लंघन किया गया है।