breaking news New

डॉ एम डी सिंह की कविताः डर वह चीज है जो लगा करता है जिंदगी भर

डॉ एम डी सिंह  की कविताः डर वह चीज है जो लगा करता है जिंदगी भर


डर वह चीज है जो लगा करता है जिंदगी भर

कहता है उसे नहीं लगता डरता है जिंदगी भर


बड़ी अजीब बात है कि आदमी जाने क्यूँ कर 

मौत आती है इक बार मरता है जिंदगी भर


ढाई अक्षर भी नहीं याद कर पाता है आदमी 

दिन रात सर डुबा कर वह पढ़ता है जिंदगी भर


मुसल्लम इमान ले जो पैदा होता है हर सक्स 

उसको ही कमोबेस खर्च करता है जिंदगी भर


सच है कि झूठ ? अक्सर यही सुनने में है आता

पिछले जन्म का आदमी भरता है जिन्दगी भर


(डॉ एम डी सिंह, पीरनगर ,गाजीपुर यू पी में  पिछले पचास सालों से ग्रामीण क्षेत्रों में होमियोपैथी  की चिकित्सा कर रहे हैं)