breaking news New

ई-टेंडर महाघोटाला जांच, आज आ सकती है रिपोर्ट

ई-टेंडर महाघोटाला जांच, आज आ सकती है रिपोर्ट

42 टेंडरों की तकनीकी जांच इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम भारत सरकार से कराई जा रही है.

रायपुर, 16 सितंबर। ई-टेंडर महाघोटाले में ईओडब्ल्यू की जांच में कुल 52 टेंडरों में से 42 में टेंपरिंग का बड़ा खुलासा हुआ था। घोटाले की जांच शुरू होने से ठीक पहले इन टेंडरों में छेड़छाड़ कर कंपनियों को फायदा पहुंचाया गया था. यह घोटाला अुनमानित तौर पर 2000 करोड़ रुपए का है.अब 42 टेंडरों की तकनीकी जांच इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम भारत सरकार से कराई जा रही है. जिसकी रिपोर्ट आज आ सकती है। 

ईओडब्ल्यू ने बीजेपी सरकार में हुए ई-टेंडर घोटाले को लेकर सबसे पहली एफआईआर 10 अप्रैल 2019 को दर्ज की थी. ये एफआईआर नौ टेंडर में टेंपरिंग को लेकर की गई थी. ईओडब्ल्यू अब तक इस एफआईआर में बनाए गए नौ आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है. जब इस घोटाले की जांच आगे बढ़ी तो कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. जांच में कुल 52 टेंडरों में से 42 में टेंपरिंग होने के पुख्ता सबूत मिले हैं. 

ईओडब्ल्यू ने 18 मई 2018 को ई टेंडर में हुई गड़बड़ी को लेकर जांच शुरू की थी. इस जांच के शुरू होने से ठीक 2 महीने पहले मार्च 2018 तक 52 टेंडरों की जांच में 42 टेंडरों में टेंपरिंग होने का खुलासा हुआ. 52 टेंडर अक्टूबर 2017 से मार्च 2018 के दौरान प्रोसेस में आए थे. इनमें 42 टेंडरों में छेड़छाड़ के पुख्ता सबूत मिले हैं. ईओडब्ल्यू ने चिन्हित 42 टेंडरों में टेंपरिंग को लेकर राज्य शासन और टेंडरों से जुड़े संबंधित विभागों को जानकारी भेजी थी. इस जानकारी के भेजने के बावजूद किसी भी स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. अब 42 टेंडरों की तकनीकी जांच इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम भारत सरकार से कराई जा रही है. जिसकी रिपोर्ट आज आ सकती है। 

जिन टेंडरों में टेंपरिंग की गई, वो अरबों रुपए के बताए जा रहे हैं. इनमें अधिकांश टेंडर के तहत प्रदेश के कई हिस्सों में काम भी किए जा रहे हैं. ये टेंडर जल संसाधन, सड़क विकास निगम, नमर्दा घाटी विकास, नगरीय प्रशासन, नगर निगम स्मार्ट सिटी, मेट्रो रेल, जल निगम, एनेक्सी भवन समेत कई निर्माण काम करने वाले विभागों के हैं. सूत्रों ने बताया है कि अरबों रुपए के इन टेंडरों में आॅस्मो आईटी सॉल्यूशन और एंटेरस सिस्टम कंपनी के पदाधिकारियों के जरिए टेंपरिंग की है. इसमें कई दलाल, संबंधित विभागों के अधिकारी-कमर्चारी और राजनेता भी शामिल हैं.

भले ही विभागों और शासन स्तर पर इन टेंडरों को लेकर कोई भी कार्रवाई नहीं की गई हो, लेकिन ईओडब्ल्यू के अधिकारियों का दावा है कि जल्द ही इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम की टेक्निकल जांच रिपोर्ट आ जाएगी और इसी रिपोर्ट के आधार पर नई एफआईआर होगी. घोटाले से जुड़ी पहली एफआईआर भी टेक्निकल जांच के रिपोर्ट के आधार पर दर्ज हुई थी.

मप्र ईओडब्ल्यू डीजी केएन तिवारी ने घोटाले को लेकर कहा, 'ई-टेंडर मामले में जांच जारी है. नौ टेंडर में दर्ज की गई एफआईआर के अलावा भी पुराने टेंडरों की जांच की जा रही है. जिन 42 टेंडरों में टेंपरिंग हुई है, अब 42 टेंडरों की तकनीकी जांच इंडियन कम्प्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम भारत सरकार से कराई जा रही है. जिसकी रिपोर्ट आज आ सकती है।