जिले में रेडक्रास का सेवा कार्य काबिले तारीफ, रोजाना कर रहे निःस्वार्थ जनसेवा

जिले में रेडक्रास का सेवा कार्य काबिले तारीफ, रोजाना कर रहे निःस्वार्थ जनसेवा


जिला कलेक्टर के कुशल दिशा-निर्देश से संभव हो रहा यह कार्य – एलेक्स


अब तक कोरोना से मृत 49 का अंतिम संस्कार

जगदलपुर, 30 सितंबर। वैश्विक महामारी के दौरान जहां एक ओर समूचे विश्व सहित बस्तर जिले के लोगों में हाहाकार मचा हुआ है. वहीं, रेडक्रास जैसी संस्था जनता के बीच जागरूकता फैलाने व निःस्वार्थ जनसेवा कर रही है. देश के प्रधानमंत्री द्वारा विगत मार्च माह में लाॅकडाउन-1 की घोषणा के बाद से ही अब तक हजारों लोगों को जिले की रेडक्रास इकाई ने जागरूक किया है. वहीं, जिले व जिले से बाहर के पीड़ितों की भी सेवा की है. चैबीसों घंटे सेवा कार्य में लगे रहने वाले इन कोरोना यौद्धाओं को जनता का भी समर्थन व प्यार मिल रहा है। रेडक्रास सोसाइटी के एलेक्स चेरियन ने एलवी न्यूज़ चैनल को बताया कि बस्तर जिला कलेक्टर व रेडक्रास के अध्यक्ष रजत बंसल के दिशा-निर्देश व कुशल मार्गदर्शन के चलते यह संभव हो सका है।

श्री चेरियन ने बताया कि अब तक कोरोना से मृत कुल 65 लोगों का अंतिम संस्कार रेडक्रास सोसायटी द्वारा किया गया है, जिसमें से 16 मृतकों को जिले से बाहर रेडक्रास के संरक्षण में भेजा जा चुका है. इसके अलावा अति-गंभीर मरीजों को राजधानी भी भेजा जा रहा है. वहीं, शहीद जवानों को गार्ड ऑफ हॉनर देकर पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया है।

वहीं, कोविड की चांच करने वाले कोरोना योद्धाओं के लिए रेडक्रास की ओर से बतौर प्रोत्साहन राशि कुल 20 लाख रूपये जारी किये गये हैं. प्रति टेस्ट फील्ड में घूमने वालों को रू. 200, कलेक्शन करने वाले कर्मचारी व अन्य स्थानों में बैठकर सैंपल लेने वालों को रू. 100 प्रोत्साहन राशि दी जा रही है।

श्री चेरियन ने बताया कि इसके अलावा लाॅकडाउन-1 के लागू होने के साथ ही डिमरापाल मेडिकल काॅलेज व महारानी अस्पताल में सोसाइटी की ओर से थर्मामीटर, ऑक्सीमीटर, स्टेथोस्कोप, बीपी जांच मशीन सहित कोरोना के इलाज में प्रयोग में लाये जाने वाले दवाईयां भी प्रदान की गई हैं. यह प्रक्रिया निरंतर जारी है।

इस बीच जिला रेडक्रास सोसाइटी द्वारा प्रदेश के बाहर से हजारों मजदूरों को भी लाया गया है. इन मजदूरों के चाय, नाश्ते व भोजन की व्यवस्था भी अन्य समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से की गई।