breaking news New

सोनी सोरी खुद चाहती थी अपनी गिरफ्तारी: एसडीओपी, अपराधी एसडीएम है : सोरी

सोनी सोरी खुद चाहती थी अपनी गिरफ्तारी: एसडीओपी, अपराधी एसडीएम है : सोरी

मुकेश श्रीवास

दंतेवाड़ा. बस्तर की आप नेता सोनी सोरी के गिरफतार होने के बाद पुलिस अधिकारी एसडीओपी ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि सोनी सोरी अपनी गिरफ्तारी खुद चाहती थी.  उधर सोनी ने यह कहकर मामले को संदिग्ध बना दिया है कि एसडीम अपराधी किस्म का है.

कुआकोंडा के पालनार में जमा हुई भीड़ का मामला बड़े ही नाटकीय ढंग से गुजर रहा है पर सभा के लिए मांगी गई अनुमति पर विसंगति है। प्रशासन का कहना है कि न तो जगह का जिक्र है और नही भीड़ की संख्या का जिक्र किया गया। ये आंदिलन शांतिपूर्ण ढंग से करने का दावा सोनी सोरी का है।

सोनी सोरी की मांग है कि जेल में आदिवासियों की संख्या अधिक है। जेल की क्षमता भी कम है। ऐसे में जेलों की संख्या बढ़ाई जाए। पेशी जल्दी जल्दी हो ताकि जल्द न्याय मिले। निर्दोष आदिवासियों की रिहाई हो। इन्हीं सभी मुद्दों को लेकर सभा की जा रही थी। प्रशासन ने नही होने दी। एसडीएम ने जबरन इस सभा को समाप्त करवाया है। करवाई भी उन्ही पर करवा दी। जबकि पूरे मामले के दोषी एसडीएम ही है।

सोनी सोरी ने ये बाते कोतवाली थाना में मीडिया से चर्चा के दौरान कही। इसके बाद पुलिस उन्हें एसडीएम कोर्ट लेकर गई है। इधर महिला पुलिस अधिकारी ने कहा कि सोनी सोरी पर 151 के तहत कार्रवाई हुई है। वे बिना अनुमति के सभा कर रही थी। सोनी सोरी खुद चाहती थी कि उनकी गिरफ्तरी हो। उनका कहना था कि इतनी भीड़ को छोड़कर नही जा सकती। बल का प्रयोग करो और गिरफ्तार करो। हमने कानून व्यवस्था ठीक बनाए रखने के लिए जो कदम उठाने थे, उठाए.