breaking news New

लगभग 25 सालों से एक ही एक ही स्थान पर पदस्थ है महिला बाल विकास की सेक्टर सुपरवाइजर

लगभग 25 सालों से एक ही एक ही स्थान पर पदस्थ है महिला बाल विकास की सेक्टर सुपरवाइजर

कोरिया।  कोरिया जिले  के खडगवा विकास खंड के महिला बाल विकास विभाग की सेक्टर सुपरवाइजर जो एक ही परियोजना में पिछले बीस से पच्चीस साल से एक ही परियोजना मे खूटे की तरह जमे हुए हैं।  स्थान्तरण नीति को  ठेंगा दिखाते हुए ये सेक्टर सुपरवाइजर एक ही स्थान  पर पिछले बीस से पच्चीस सालों से एक ही परियोजना में पदस्थ होने के बाद इनके हौसले काफी बुलंद हैं।  ये अपने  मुख्यालय में कभी नहीं रहती हैं मुख्यालय से तीस से चालीस किलोमीटर दूर अपने मनमाने तरीक़े से विकास खंड में निवास कर रही है और ईतनी दूर का सफर कर सेक्टर का संचालन कर रही है।
 सेक्टर बडे सालही सेक्टर कटकोना सेक्टर कोडा आदि की सुपरवाइजर खडगवा से आना जाना करके सेक्टर का संचालन किया जा रहा है विकास खंड में  एक ही स्थान पर जमे रहने के कारण विभागीय कार्य प्रभावित होते है तो वही भ्रष्टाचार एवं रिश्वत खोरी को भी बढावा मिलता हैऔर शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन पर भी गंभीर लापरवाही साफ देखी जा सकती है। सेक्टर सुपरवाइजरो के अपने मुख्यालय में नहीं रहने से क्षेत्र में ग्रामीणों को योजनाओं का सही लाभ भी नहीं मिल पता है।

विकास खंड मे एक ऐसा विभाग महिला बाल विकास विभाग हैं जहां  कई सेक्टर सुपरवाइजर है जो  जब से महिला बाल विकास का कार्यालय सथापित हुआ है तब से पदस्थापना हुई है तब से एक ही सथान पर  ही जमे हुए हैं।और  महिला बाल विकास में  पदस्थ रहने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों को एक जगह से दूसरे जगह स्थानांरित इसलिए किया जाता है कि जब उनको एक ही जगह पर अधिक समय हो जाता है तो लोगों से बने संबंधों को लेकर वह शासन की योजनाओं का आमजन को लाभ देने में भी भेद भाव पूर्ण रवैया ना अपना सकें.

जहां पर एक ओर राज्य शासन के द्वारा थोक में अधिकारियों एवं कर्मचारियों के तबादले किए गए वही खडगवा विकास खंड के महिला बाल विकास के कर्मचारी एवं अधिकारी वर्षों से अंगद के पैर की तरह कई वर्षों से कार्यालय में जमे हुए हैं।

सेक्टर की सुपरवाइजरो की जहाँ पदस्थापना है वहां और अपने सेक्टर में ना रहकर विकास खंड मुख्यालय मे निवास करती है यहां से तीस से चालीस किलोमीटर दूर से आगनबाडीओ का संचालन कर रही है महिला बाल विकास कार्यालय खडगवा में आये दिन दिखाई देती है।

ऐसे संचालित किया जा  रहा है :--

सेक्टर सुपरवाइजरो के द्रारा  ऐसे नन्हे मुनहे बच्चों के भविष्य की जिम्मेदारी दी गई है और इनके द्रारा कागजों में सब कुछ सही होना बताया जाता है।जबकि इसकी धरातल पर सच्चाई कुछ और है।