breaking news New

अमेरिका में चीनी दूतावास बंद करने के आदेश के बाद ड्रेगन ने USA को दी धमकी, पढ़िए पूरी खबर

अमेरिका में चीनी दूतावास बंद करने के आदेश के बाद ड्रेगन ने USA को दी धमकी, पढ़िए पूरी खबर

अमेरिका के ह्यूस्टन में चीनी दूतावास बंद करने के आदेश के बाद चीन ने पलटवार करने की धमकी दी है. अमेरिका ने मंगलवार को दूतावास बंद करने की मांग की थी. वांग ने कहा कि अमेरिका का ये कदम अभूतपूर्व तरीके से टकराव को बढ़ाने वाला है. उन्होंने ये भी कहा कि अमेरिका स्थित चीनी दूतावास और राजनयिकों को धमकियां भरे फोन भी आ रहे थे.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि चीन ने अमेरिकी राजदूतों के प्रति सद्भावना दिखाई है और अमेरिका में उसके राजदूतों ने अमेरिका-चीन संबंधों को मजबूत किया है. इसके विपरीत, अमेरिका ने जून महीने में चीनी राजदूतों पर बिना किसी वजह के तमाम तरह की पाबंदियां लगाईं. अमेरिका ने उनके मेल और आधिकारिक संदेश भी जब्त कर लिए थे. वांग ने कहा, अमेरिका की तरफ से जानबूझकर नफरत फैलाने वाले कदमों की वजह से अमेरिका में रह रहे चीनी राजदूतों को जान से मारने की धमकियां तक मिल रही हैं.

वांग ने कहा, चीनी स्थित अमेरिकी दूतावास ने चीन पर हमला करते हुए तमाम आर्टिकल लिखे हैं. ये स्पष्ट होना चाहिए कि कौन किसकी घरेलू राजनीति में दखल दे रहा है और विवाद शुरू कर रहा है.

उन्होंने कहा, अमेरिका का दावा है कि चीन-अमेरिका के संबंधों में असंतुलन है, ये उनका हमेशा का बहाना रहता है जिसका कोई आधार ही नहीं है. वास्तव में, राजदूतों और राजनयिक संस्थाओं की संख्या की बात करें तो चीन के मुकाबले उनकी ही तादाद ज्यादा है.

लेकिन अमेरिका के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोर्गन ओर्तागुस ने कहा, चीन से बताया गया है कि अमेरिकियों की बौद्धिक संपदा और निजी जानकारी की सुरक्षा के मकसद से ह्यूस्टन दूतावास को बंद किया जाए. ओर्तुगस ने कहा कि अमेरिका ये बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करेगा कि हमारे लोगों की संप्रुभता और निजता का चीनी उल्लंघन करें, जैसे हमने चीन के साथ व्यापार में गलत चीजें बर्दाश्त नहीं की और बाकी गलतियों को भी नहीं बख्शा.