breaking news New

दहशत में कर रहे चुनाव प्रचार, आला नेताओं के भी पसीने छूट रहे धमकी के डर से

दहशत में कर रहे चुनाव प्रचार, आला नेताओं के भी पसीने छूट रहे धमकी के डर से


दन्तेवाड़ा - उपचुनाव और नक्सलवाद के बीच नेताओं के पसीने छूट रहे हैं। चुनाव  के प्रचार प्रसार के दौरान नेताओं को डर के साये में छिपकर प्रचार करना पड़ रहा है। जैसे जैसे उपचुनाव नजदीक आ रहा है , दंतेवाड़ा प्रचार करने गए नेताओं ने अभी तक अपने लक्ष्य क्षेत्र पूरा करने में असक्षम हैं। नक्सलियों के द्वारा लगातार धमकी मिलने से चुनाव प्रचार के लिए नेता और कार्यकर्त्ता दंतेवाड़ा के आधे से भी ज्यादा गांव तक नहीं पहुंच पाए हैं। 

जानकारी के मुताबिक चुनाव प्रचार के दौरान दरभा डिविजनल कमेटी ने सीमाई क्षेत्रों सहित जगह-जगह नक्सलियों ने लगाए चुनाव बहिष्कार के पोस्टर लगाकर ग्रामीणों से धमकी भरे अंदाज में कहा है वोट मांगने आ रहे नेताओं को मार भगाओ, क्रांतिकारी जनता सरकार को मजबूत बनाओ। जनता की मूलभूत  समस्याएं चुनाव के जरिये नहीं बल्कि जन संघर्ष द्वारा हल की जाएंगी। 

सूत्रों के अनुसार कांग्रेस इस सीट को प्रतिष्ठा की सीट मान रही है तो वहीं भाजपा चुनाव के दौरान बूथ प्रबंधन पर पूरा जोर लगाए हुए है। इस दौरान 23 सितम्बर को वोट पड़ने से पहले ही लगभग 10 हजार से ज्यादा जवानों की तैनाती कर दी गई है।