breaking news New

कन्सलटेंट कंपनी में 52 लाख रूपए गबन करने वाला आरोपी चढ़ा पुलिस के हत्थे

कन्सलटेंट कंपनी में 52 लाख रूपए गबन करने वाला आरोपी चढ़ा पुलिस के हत्थे

राजेश जैन 

रायगढ़, 8 नवंबर। कन्सलटेंट कंपनी के माध्यम से 52 लाख रूपए गबन करने वाले कंपनी के मुलाजिम को एक साल बाद पुलिस ने अपने हत्थे चढ़ाने में सफलता हासिल की है। रायपुर की कन्सलटेंन्ट कंपनी के रायगढ़ ब्रांच में कार्यरत युवक ने विभिन्न कंपनियों से मिली राशि को ऑन लाईन जमा करने के बजाए गबन कर फरार हो गया था। कपंनी के संचालक की रिपोर्ट पर कोतवाली पुलिस द्वारा उसके विरूद्ध धोखाधड़ी का जुर्म दर्ज कर उसकी खेजबीन की जा रही थी जिसे रायपुर में गिरफ्तार किया गया। 

मिली जानकारी के मुताबिक रायपुर शंकर नगर निवासी दिलीप अग्रवाल कन्सलटेंट कंपनी का संचालन करता है जिसके तहत विभिन्न कंपनियों द्वारा टैक्स एवं अन्य शासकीय कार्यों के लिए ऑन लाईन राशि जमा करते हैं तथा कुछ कंपनियों द्वारा कैश जमा किया जाता है जिसे कंपनी द्वारा शासकीय पोर्टल में जमा करवाने का कार्य भी किया जाता है। इस कार्य के लिए रायगढ़ में दिलीप अग्रवाल ने अतुल विस्वाल नाम के व्यक्ति को नियुक्त किया था जो उसकी कंपनी के कार्य को देखता था। रायगढ़ के विभिन्न कंपनियां जो कैश में राशि जमा करने वाली होती थी वे अतुल के एकाउंट में पैसा जमा करती थी जिसे बाद में अतुल द्वारा अपने एकाउंट से शासन के पोर्टल में ऑन लाईन जमा करवाया जाता था। अप्रैल 2017 से सितंबर 2018 के बीच उसके एकाउंट में जमा हुए कैश को अतुल ने संबंधित शासकीय पोर्टल में जमा नहीं कराया। इस बात की जानकारी जब कपंनी संचालक दिलीप अग्रवाल को हुई तो उसने अजुल विस्वाल के विरूद्ध रायगढ़ सिटी कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराते हुए बताया था कि उक्त अवधि में विभिन्न कंपनियों के माध्यम से अतुल के एकाउंट में 52 लाख 21 हजार 365 रूपए जमा किये गये हैं जिसका वह गबन कर लिया है। सिटी कोतवाली पुलिस ने 3 नवंबर 2018 को आरोपी अतुल विस्वाल के विरूद्ध भादवि की धारा 408,467,468,471 के तहत अपराध पंजीबद्ध किया था। वहीं रिपोर्ट दर्ज होने पर अतुल रायगढ़ छोड़ कर फरार हो गया था। पिछले एक वर्ष से पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। दो दिन पूर्व पुलिस को उसके रायपुर में छिपे होने की जानकारी मिली तो पुलिए पार्टी रायपुर जा कर उसके छिपने के ठिकाने से उसे गिरफ्तार कर रायगढ़ लाई। कोतवाली पुलिस ने आरोपी अतुल विस्वाल को न्यायालय में पेश किया गया जहां से उसे जेल भेज दिया गया है।