कीचड़ से भरा पड़ा बाजार पैर रखने की जगह नहीं : दुकाने तो विस्थापित हुई लेकिन व्यवस्था नही होने से दुकानदार परेशान

  कीचड़ से भरा पड़ा बाजार पैर रखने की जगह नहीं  :  दुकाने तो विस्थापित हुई लेकिन व्यवस्था नही होने से दुकानदार परेशान

बचेली-मुख्य मार्ग गौरव पथ निर्माण की जद में आ रही दुकानो को पुराना मार्केट, होटल हिलटाॅप के सामने ढलान पर प्रशासन द्वारा विस्थापित किया गया है। लेकिन इस नये स्थान पर इन छोटे दुकानदारो के लिए पेयजल, शौचालय, विघुत की व्यवस्था नही होने से परेशान है। दुकान के समाने का इलाका कंाक्रीट नही करने से बरसात के कारण कीचड़ से भरा हुआ है। दरअसल बाबा होटल व पेट्ोल पंप के सामने  करीब 41 छोटे-छोटे दुकाने थे, जिसमे से 37 दुकाने होटल हिलटाॅप के सामने बनाई गई है।

        वर्तमान में कुछ ही दुकाने खुल रही है वह भी कुछ ही समय के लिए। इस नये दुकानो में बिजली की व्यवस्था नही है, लेकिन हाल ही में विघुत खंभे लगाए गए है। साथ ही न तो उस स्थान पर दुकानदारो के लिए पेयजल की व्यवस्था और न ही शौचालय की। यह सभी व्यवस्था न होने के बावजूद प्रशासन द्वारा जल्दबाजी में दुकानदारो को उस स्थान पर विस्थापित किया गया, जिससे उन्हे परेशानी हो रही है।

             दुकानदारो को कहना है कि पिछले 4-5 माह से कोविड 19 के लाॅकडाउन के कारण हमारा व्यवसाय पूरी तरह से बंद हो गया था, दूसरी तरफ बरसात के समय हमे अव्यवस्थित क्षेत्र में दुकान संचालन के लिए दिया गया है जिससे हमारी आर्थिक परेशानी हो रही है। हम सभी दुकानदारो को मांग थी कि बरसात के बाद हमे विस्थापित किया जाये, लेकिन प्रशासन द्वारा जल्द से जल्द गौरव पथ निर्माण करने के बात कहते हुए यहाॅ शिफट गया लेकिन गौरव पथ कार्य भी बंद पड़ा है। दुकानदारो ने किराये पर भी कहा कि छोटे दुकानो से 400 रूपये व बड़े दुकानो से 600 रूपये प्रतिमाह लिया जायेगा, ऐसे ही आर्थिक स्थिति हमारी खराब हो चुकी है, राशि देने में असमर्थ महसूस कर रहे है।  

कई वर्षो से इसी स्थानो पर यह छोटे दुकानदार यही से घर परिवार का पालन पोषण कर रहे थे। लेकिन कोरोना काल एवं नये स्थान पर दुकाने विस्थापित किये जाने से पालन पोषण कर पाना मुश्किल हो गया है।

         इस संबंध में मुख्य नगर पालिका अधिकारी आईएल पटेल ने कहा कि जल्द से जल्द इनके लिए पेयजल व शौचालय की व्यवस्था कर दी जायेगी। दुकाने के सामने कांक्रीट करने के लिए शासन को राशि स्वीकृति के लिए प्रस्ताव भेजा गया है, राशि स्वीकृति के बाद जल्दी इसे बना दिया जायेगा। विघुत खंभे लग चुके है, कुछ ही दिनो में स्ट्ीट लाईटे लग जायेगी, दुकानदारो को स्वयं ही मीटर लगाकर विघुत सप्लाई लेनी है।