breaking news New

मन में गांठ बांध लें कि दूसरों की जय के पहले खुद का जय करना चाहिए-कलेक्टर

मन में गांठ बांध लें कि दूसरों की जय के पहले खुद का जय करना चाहिए-कलेक्टर

शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सरायपाली केना में नवजीवन कार्यक्रम

महासमुन्द, 13 सितम्बर। महासमुंद के कलेक्टर सुनील कुमार जैन के विशेष पहल एवं जिला प्रशासन के सक्रिय सहभागिता पर आयोजन कार्यक्रम नवजीवन की शुरुआत शासकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सरायपाली केना में की गई। संस्था के प्राचार्य एमएल नायक एवं कार्यक्रम प्रभारी व्याख्याता शैलेंद्र नायक के संयुक्त प्रयास पर नवजीवन कार्यक्रम के आयोजित किया गया। यहां विश्व आत्महत्या रोकथाम दिवस के महत्वपूर्ण विषय पर विद्यालय में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं को मार्गदर्शन देने हेतु आमंत्रित अतिथि विवेक शर्मा, युवा प्रकोष्ट अध्यक्ष, अखिल विश्व गायत्री परिवार को सभी ने ध्यानपूर्वक सुना। उन्होंने बताया कि विद्यार्थी जीवन में पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय रायपुर अंतर्गत विभाग मनोविज्ञान अध्ययन शाला अनुदान आयोग द्वारा प्रायोजित कार्यशाला मनोविज्ञान एवं व्यक्तित्व विकास के विषय पर सम्मानित होने के सौभाग्य मिला था, जिसके आधार पर विद्यार्थियों को मनोविकार से जुड़ी समस्याओं को जानने एवं समाधान खोजने के लिए व्याख्यान दिया था। अत: सर्वप्रथम इस बात का मन में गांठ बांध लें कि दूसरों की जय के पहले खुद का जय करना चाहिए। 

कलेक्टर श्री जैन ने कहा कि  सदैव सकारात्मक विषयों पर चिंतन करना और सभी के साथ मित्रवत व्यवहार रखने के लिए प्रेरित किया प्रत्येक कार्य के लिए समय प्रबंधन करना एवं उसका रूप से प्रतिवेदन समय पर उठना चाहिए। साथ ही दैनिक दिनचर्या के निवृत्ति, स्वास्थ्य, शुद्ध शाकाहार, व्यसन से दूर रहना, बड़ों का आदर करना, नित्य प्रति प्रसन्नचित रहना, दूसरों की सहायता करना जैसी बातें कही। उनका कहना है कि दिन में कम से कम 10 से 15 मिनट दर्पण के आगे बैठकर स्वयं से बातें करना है, ताकि मन का भय समाप्त हो सके। अपने आसपास के लोगों में ही हितैषी की पहचान करते हुए अपने समस्याओं को रखना और उनके समाधान का प्रयास करना होगा। एकांकी जीवन से बने अपने मित्रों के साथ मनोरंजक खेल की गतिविधियों को भी करना होगा ताकि मन का अवसाद इसकी थकान दूर हो जाए। 

उल्लेखनीय है कि विज्ञान के व्याख्याता निर्मल प्रधान के संयोजक में विवेक शर्मा के द्वारा वीडियो प्रोजेक्टर के माध्यम से धूम्रपान एवं व्यसन मुक्ति पर आधारित फिल्म भी दिखाई गई। इसके प्रभावों को व्याख्याता शैलेंद्र नाथ द्वारा प्रस्तुत किया गया। इस वीडियो को देखकर सभी ने अपने जीवन में व्यसननों से दूर रहने की शपथ ली। दूसरों को भी जागरूक करने के लिए विद्यार्थियों को जिम्मेदारी दी गई। कार्यक्रम में कुल 160 विद्यार्थियों सहित शिक्षकों की भागीदारी संस्था के वरिष्ठ शिक्षकों एनपी बेहरा, आर एस राय, जी एस, होता, अनूप मेश्राम, एवही एक्का, निर्मल प्रधान, वंदना बड़घया, प्रीति उबोवेजा, चेतना निबरगिया एवं अनुज बरेठ, सत्यप्रकाश साहू, योगेश भोई, राकेश प्रधान के मार्गदर्शन एवं सहयोग से यह कार्यक्रम पूर्ण हुआ।