breaking news New

बाजार की 6 दिन की गिरावट पर लगा ब्रेक, निवेशकों ने कमाए 1.66 लाख करोड़

बाजार की 6 दिन की गिरावट पर लगा ब्रेक, निवेशकों ने कमाए 1.66 लाख करोड़

नई दिल्ली। अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर में नरमी की वजह से भारत समेत दुनिया भर के शेयर बाजार में रौनक लौट आई है. सप्‍ताह के दूसरे कारोबारी दिन बुधवार को सेंसेक्‍स 646 अंक की बढ़त के साथ 38,177.95 के स्‍तर पर बंद हुआ. वहीं निफ्टी में 187 अंक की बढ़त रही और कारोबार के अंत में यह 11,313 अंक पर बंद हुआ. इसी के साथ शेयर बाजार में लगातार 6 दिन की गिरावट पर ब्रेक भी लग गया है. बीते 6 दिन में सेंसेक्‍स और निफ्टी ने 3 फीसदी से अधिक की बढ़त गंवा दी थी.  
निवेशकों को ‭1.66 लाख करोड़ का फायदा
बुधवार को कारोबार के अंत में बीएसई इंडेक्‍स का मार्केट कैप  1,43,92,456.25 रुपये था. इससे पहले सोमवार को कारोबार के अंत में बीएसई इंडेक्‍स का मार्केट कैप 1,42,26,083.26 रुपये था. इस लिहाज से सिर्फ एक कारोबारी दिन में बीएसई इंडेक्‍स में निवेश करने वाले निवेशकों को ‭1.66 लाख करोड़ रुपये का फायदा हुआ है. बता दें कि मंगलवार को शेयर बाजार दशहरा की वजह से बंद थे.
किन शेयरों का क्‍या हाल?
कारोबार के अंत में सबसे अधिक बढ़त इंडसइंड बैंक के शेयर में दर्ज की गई. इंडसइंड बैंक के शेयर 5.45 फीसदी की बढ़त देखने को मिली तो वहीं एयरटेल के शेयर 5.20 फीसदी की तेजी रही. इसके अलावा आईसीआईसीआई बैंक, एसबीआई और महिंद्रा के शेयर भी 4 फीसदी से अधिक बढ़त के साथ बंद हुए.
अन्‍य शेयरों में टाटा स्‍टील, एचडीएफसी बैंक, कोटक बैंक, बजाज फाइनेंस, एशियन पेंट, टाटा मोटर्स, वेदांता, एक्‍सिस बैंक और एलएंडटी के शेयर हरे निशान पर बंद हुए. वहीं सबसे अधिक गिरावट यस बैंक के शेयर में देखने को मिली. यस बैंक के शेयर में 5.26 फीसदी की फिसलन दर्ज की गई. इसके अलावा हीरो मोटोकॉर्प और एचसीएल में 2 फीसदी से अधिक की गिरावट रही. आईटीसी, टीसीएस और इन्‍फोसिस के शेयर भी लाल निशान पर बंद हुए.
ट्रेड वॉर पर पॉजिटिव संकेत
बता दें कि अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वॉर में नरमी की वजह से एशियाई बाजारों में रिकवरी दिख रही है. दरअसल, चीन के उप-प्रधानमंत्री लिऊ ही की अमेरिका यात्रा से पहले अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा कि चीनी वस्तुओं पर अतिरिक्त शुल्क लगाने की उनकी नीति का इच्छित परिणाम आया है. उन्होंने कहा, 'हमने चीनी वस्तुओं पर शुल्क लगाने के रूप में काफी राशि प्राप्त की है. चीन के साथ व्यापार समझौते की काफी संभावना है. समझौता होता है या नहीं, मुझे नहीं पता लेकिन निश्चित रूप से अच्छी संभावना है.'