breaking news New

ठेकेदार की अधूरी शौचालय निर्माण का खामियाजा भुगत रहे मासूम

ठेकेदार की अधूरी शौचालय निर्माण का खामियाजा भुगत रहे मासूम

बीजापुर, 14 सितंबर। जिले के भैरमगढ़ विकासखंड के ग्राम कोमपल्ली में संचालित आदिवासी विकास विभाग द्वारा बालक आश्रम के मासूम छात्र शौचालय की समस्या से मासूम जूझ रहे हैं नवनिर्मित शौचालय की अधूरी निर्माण से छात्रों को जंगल जाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। बालक आश्रम कोमपल्ली में 70 आवासीय छात्र शिक्षा अध्ययन कर रहे हैं और शौचालय की कमी के छात्रों को जंगल की ओर रुख करना उनकी मजबूरी हो गई है अधीक्षक ने बताया कि सुकमा के ठेकेदार के द्वारा शौचालय निर्माण कराया जा रहा था जिसमें कुछ मजदूरों का भुगतान मैंने स्वयं के खर्चे से किया है इसके बावजूद भी शौचालय अपूर्ण है। अधीक्षक ने आरोप लगाते हुए कहा कि कई बार उच्चाधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी सुध नहीं ले रहे हैं। आपको बता दें कि एनएमडीसी मद से 3 शौचालय बने हुए हैं लेकिन आज तक उपयोग नहीं किया जा सका है इसी तरह कुछ पुराने जर्जर शौचालय भी उपयोग के लायक नहीं है जिसे छात्रों ने मीडिया को बताया। और कहा कि एक हैंडपंप होने की वजह से पीने के पानी की समस्या से भी जूझ रहे हैं।  वर्षों से संचालित बालक आश्रम में संबंधित अधिकारी निरीक्षण के लिए जाते हैं इसके बावजूद भी बालक आश्रम की समस्या जस की तस बनी हुई है बड़ा सवाल है।