breaking news New

सर्पदंश से बालक की मृत्यु, बैगा ने बच्चे को जिंदा कर देने का दावा किया

सर्पदंश से बालक की मृत्यु, बैगा ने बच्चे को जिंदा कर देने का दावा किया

राजेश जैन

रायगढ़, 13 सितंबर। 21 वीं सदी में भी अंधविश्वास से लोग उबर नहीं पा रहे हैं। सर्पदंश से बालक की मृत्यु होने के बाद भी परिजन उसे मरा हुआ नहीं मान रहे थे और बिना पोस्टमार्टम के ही शव को सौंपने की जिद पर अड़े रहे। परिजनों का का कहना था कि उसे झाड़ फूंक से ठीक करवा लिया जावेगा। दरअसल हुआ यूं कि खरसिया क्षेत्र के गांव ठाकुरदिया निवासी संजु दास महंत के घर में उसकी सास श्याम बाई महंत और संजु का बेटा योगेश दास सोये हुए थे। इसी दौरान किसी जहरीले सर्प ने उन दोनों को डस लिया। गंभीर अवस्था में उन्हे मेडीकल कॉलेज अस्पताल रायगढ़ ला कर भर्ती कराया गया जहां प्रारंभिक जांच के बाद चिकित्सकों ने दोनों को मृत घोषित कर दिया गया। इधर मौत के बाद शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया,लेकिन परिजन इसका विरोध करने लगे। परिजनों का कहना था कि झाड़ फूंक से उनका बच्चा ठीक हो जायेगा लिहाजा चिर फाड़ न करें। उनका कहना था कि जांजगीर जिले के कैथा गांव के बैगा ने बच्चे को जिंदा कर देने का दावा किया है। इस संबंध में पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने की बात कही तो उन्होने कलेक्टर से भी शव को बिना पीएम के वापस देने की गुहार लगाई है। शव को वापस पाने के लिए परिजन भटक रहे हैं।