breaking news New

भिलाई इस्पात संयंत्र में हिंदी दिवस समारोह का समापन

भिलाई इस्पात संयंत्र में हिंदी दिवस समारोह का समापन

 भिलाई, 15 सितंबर। भिलाई इस्पात संयंत्र के राजभाषा विभाग द्वारा मानव संसाधन विकास केन्द्र के सभागार में हिंदी दिवस समारोह का आयोजन किया गया। यह समारोह अनिर्बान दासगुप्ता, मुख्य कार्यपालक अधिकारी, भिलाई इस्पात संयंत्र एवं अध्यक्ष, राजभाषा कार्यान्वयन समिति के मुख्य आतिथ्य में हुआ। इस अवसर पर कार्यक्रम के अध्यक्ष के रूप में पी.के. दास, कार्यपालक निदेशक (संकार्य) तथा विशिष्ट अतिथिगण डॉ. एस. के. इस्सर, निदेशक प्रभारी (चिकित्सा एवं स्वा. सेवायें), बी. पी. नायक, कार्यपालक निदेशक (वित्त एवं लेखा), के. के. सिंह कार्यपालक निदेशक (कार्मिक एवं प्रशासन), ए.के. भट्ट महाप्रबंधक प्रभारी (परियोजनाएँ) उपस्थित थे। समारोह में भिलाई इस्पात संयंत्र के 03 विभागों, गैर-संकार्य अंचल से कार्मिक विभाग, संकार्य क्षेत्र अंचल से ट्रैफिक विभाग एवं खदान क्षेत्र अंचल से राजहरा खान समूह को हिंदी में सर्वाधिक कार्य के लिए मुख्य कार्यपालक अधिकारी राजभाषा वैजयन्तीे पुरस्कार, संयंत्र के 09 वरिष्ठ कार्यपालक अधिकारियों को राजभाषा उन्नायक सम्मान, 10 विभागों को कार्यालय में हिंदी में सामूहिक श्रेष्ठ कार्य करने के लिए राजभाषा कार्यालय पुरस्कार तथा 25 अधिकारियों एवं कार्मिकों को राजभाषा विशिष्ट सेवा सम्मान-2019 से सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में राकेश मिश्र, वरिष्ठ प्रबंधक एवं हिंदी सम.अधिकारी, सुरक्षा एवं अग्निशमन विभाग को संयंत्र के सर्वश्रेष्ठ हिंदी समन्वय अधिकारी के लिए सम्मानित किया गया। जनसम्पर्क विभाग को 'भिलाई सवांद' पत्रिका हेतु एवं नगर सेवाएँ को 'स्पंदनÓ पत्रिका प्रकाशन के लिए पत्रिका प्रकाशन सम्मान-2019 प्रदान किया गया । इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा सहायक महाप्रबंधक (राजभाषा) डॉ.बी.एम.तिवारी को उनके दीर्घकालीन सराहनीय हिंदी सेवा के लिए राजभाषा भास्कर सम्मान से सम्मानित किया गया।  मुख्य कार्यपालक अधिकारी एवं मंचस्थ कार्यपालक निदेशकगण द्वारा राजभाषा प्रवाह के फोल्डर का विमाचन किया गया। मुख्य अतिथि अनिर्बान दासगुप्ता, मुख्य कार्यपालक अधिकारी ने समारोह में सर्वप्रथम केन्द्रीय इस्पात मंत्री के हिंदी दिवस अपील का वाचन किया। संयंत्र कर्मियों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि आज हम सब अपने राष्ट्रीय पर्व हिंदी दिवस के पावन अवसर पर एकत्रित हुए हैं। आज ही के दिन भारतीय संविधान में हिंदी को राजभाषा का दर्जा प्रदान किया गया। इसलिए 14 सितंबर को हम हिंदी दिवस के रूप में मनाते हैं।  मुख्य अतिथि ने  कहा कि मैं ये तो नहीं कहूँगा कि अंग्रेजी अवैज्ञानिक भाषा है, किंतु इतना अवश्य कहूँगा कि हिंदी विश्व की सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक भाषा है। कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत विजय मैराल, उपमहाप्रबंधक (संपर्क एवं प्रशासन) द्वारा किया गया तथा संचालन एवं आभार प्रदर्शन डा बी.एम.तिवारी, सहा.महाप्रबंधक (राजभाषा) द्वारा किया गया। कार्यक्रम को सफल बनाने में राजभाषा विभाग की टीम एवं एच.आर.डी.सी, पी.आर. कि टीम की भी सराहनीय भूमिका रही।