breaking news New

रिपब्लिक टीवी को अदालत की फटकार, प्रेस को सीमा रेखा खींचनी चाहिए

रिपब्लिक टीवी को अदालत की फटकार, प्रेस को सीमा रेखा खींचनी चाहिए

मुंबई।  बॉम्बे हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपांकर दत्ता और जस्टिस जीएस कुलकर्णी की पीठ ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में चैनल के हैशटैग ट्रेंड्स और इससे संबंधित विभिन्न खबरों के मुद्दे पर यह बात कही.

अदालत ने ट्विटर पर चले चैनल के हैशटैग ‘रिया को गिरफ्तार करो’ का उल्लेख किया. कोर्ट ने चैनल की ओर से पेश वकील मालविका त्रिवेदी से यह भी पूछा कि रिपब्लिक टीवी ने शव की तस्वीरें क्यों प्रसारित कीं और क्यों अभिनेता की मौत के मामले में हत्या या आत्महत्या की। 

पीठ ने कहा, ‘शिकायत ‘हैशटैग-रिया को गिरफ्तार करो’ के बारे में है. यह आपके चैनल के समाचार का हिस्सा क्यों है. अदालत ने  प्रेस को सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में इस तरह की रिपोर्टिंग से रोका जाए. याचिकाओं में टीवी चैनलों को मामले में मीडिया ट्रायल करने से रोकने का आग्रह भी किया गया है.

कोर्ट ने कहा, ‘हम पत्रकारिता के बुनियादी नियमों का जिक्र कर रहे हैं, जहां आत्महत्या से संबंधित रिपोर्टिंग के लिए बुनियादी शिष्टाचार का पालन करने की जरूरत है.  आपने यहां तक की  मृतक को भी नहीं छोड़ा, गवाहों को तो भूल जाइए.’

सुशांत के पिता केके सिंह ने पटना के राजीव नगर थाना में अभिनेता की प्रेमिका और लिव इन पार्टनर रहीं अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के अन्य सदस्यों के खिलाफ अभिनेता को खुदकुशी के लिए उकसाने और अन्य आरोपों में शिकायत दर्ज कराई थी.

सुशांत की मौत को लेकर उठ रहे सवालों के बीच बिहार सरकार के अनुरोध पर केंद्र सरकार ने मामले की जांच बीते पांच अगस्त को सीबीआई को सौंप दी थी.