breaking news New

पाकिस्तान के फाइटर प्लेन JF-17 के मुकाबले भारतीय राफेल काफी बेहतर

पाकिस्तान के फाइटर प्लेन JF-17 के मुकाबले भारतीय राफेल काफी बेहतर

नईदिल्ली। भारतीय वायु सेना  के बेड़े में राफेल के शामिल होने से इसकी ताकत और बढ़ गई है और अब इस बात चीनी विशेषज्ञों ने भी स्वीकर कर लिया है और कहा है कि पाकिस्तान के फाइटर प्लेन JF-17 से राफेल काफी बेहतर है.  भारत ने फ्रांस से 36 राफेल विमानों को लेकर डील किया है और 8 विमान देश पहुंच भी चुके हैं, जबकि पाकिस्तान ने चीन के साथ मिलकर जेएफ-17 स्वदेशी लड़ाकू विमान तैयार किया है.  राफेल, पाकिस्तानी जेएफ-17 थंडर विमान से कितना दमदार है.

 फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन ने बनाया है, जबकि पाकिस्तान ने चीन के साथ मिलकर जेएफ-17 स्वदेशी लड़ाकू विमान तैयार किया 

 जेएफ-17 की तुलना में फ्रांस में बने राफेल को अब भी दुनिया में सबसे उन्नत लड़ाकू विमान माना जाता है. रिपोर्ट में चीनी विशेषज्ञों ने कहा, 'भारत ने उच्च मूल्य पर फ्रांस से 36 राफेल फाइटर प्लेन खरीदा।   JF-17 फाइटर को पाकिस्तानी वायु सेना के मद्देनजर डिजाइन किया गया है. इस विमान को पुराने लड़ाकू विमानों जैसे कि ए-5सी, एफ-7पी / पीजी, मिराज 3 और मिराज 5 की रिप्लेसमेंट के तौर पर शामिल किया गया है. 

JF-17 विमान को पाकिस्तान एरोनॉटिकल कॉम्प्लेक्स (पीएसी) ने चीन के चेंगदू एयरक्राफ्ट कॉरपोरेशन (सीएसी) के सहयोग से बनाया है. वर्तमान में पाकिस्तान के पास 100 से अधिक JF-17 फाइटर जेट्स का बेड़ा है.

राफेल चौथी पीढ़ी का दो इंजनों वाला, कैनार्ड-डेल्टा विंग, मल्टीरोल लड़ाकू विमान है, जो अत्याधुनिक हथियारों से लैस है. राफेल में बहुत ऊंचाई वाले एयरबेस से भी उड़ान भरने की क्षमता है. लेह जैसी जगहों और काफी ठंडे मौसम में भी लड़ाकू विमान तेजी से काम कर सकता है. राफेल में राडार से बच निकलने की युक्ति है और हवा से  हवा में व हवा से जमीन पर हमले कर सकता है.

जेएफ-17 की अधिकतम स्पीड 1975 किलोमीटर प्रतिघंटा है, जबकि राफेल की अधिकतम स्पीड 2130 किलोमीटर प्रति घंटा है.जेएफ-17 एक बार में 12,383 किलोग्राम वजन उठा सकता है, वहीं राफल 24,500 किलो उठाकर ले जाने में सक्षम है.

जेएफ-17 फाइटर जेट 14.9 मीटर लंबा और 4.7 मीटर ऊंचा है, जबकि राफेल राफेल की लंबाई 15.3 मीटर और ऊंचाई 5.3 मीटर है, जबकि विंगस्पैन सिर्फ 10.9 मीटर है, जो पहाड़ी क्षेत्र में उड़ने में मदद करता है.

जेएफ-17 का इस्तेमाल हवाई जासूसी, जमीन पर हमले और विमान के अवरोधन के लिए किया जा सकता है. वहीं राफेल की खासियत की बात करें तो इसमें राडार से बच निकलने की युक्ति है. यह बहुत ऊंचाई वाले एयरबेस से उड़ान भरने के साथ लेह जैसी जगहों और काफी ठंडे मौसम में भी काम कर सकता है.